अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीओसीटी कर्मचारियों से प्रभावित हो रही हैं लैब में जांचें

- प्रदेश में लैब टेक्नीशियनों के खाली एक हजार पदों को भरा जाए - टेक्नीशियनों को दिया जाए 4200 ग्रेड पे लखनऊ। निज संवाददाता प्रदेश भर के लैब टेक्नीशियनों ने पीओसीटी के जरिए भरे गए कर्मचारियों द्वारा की जा रही जांचों पर आपत्ति जताई है। यूपी लैब टेक्नीशियन एसोसिएशन की बुधवार को हुई बैठक में पदाधिकारियों और सदस्यों ने पीओसीटी की जांच की गुणवत्ता पर गहरी नाराजगी व्यक्त की। आरोप लगाए कि सरकारी लैब की अपेक्षा पीओसीटी की लैब और उनके कर्मचारियों द्वारा की जा रही जांच में काफी अंतर देखने को मिल रहा है। पीजीआई समेत कई जगह पर इसी कंपनी द्वारा लैब लगाकर जांच की जा रही है। रद हो वर्ष 2016 का विज्ञापन एसोसिएशन के अध्यक्ष महेश प्रसाद की अध्यक्षता में ठाकुरगंज 100 बेड अस्पताल में टेक्नीशियनों की बैठक हुई। उन्होंने कहा कि प्रदेश में लैब टेक्नीशियनों (एलटी) के एक हजार रिक्त पदों पर जल्द भर्ती की जाए। साथ ही वर्ष 2016 में विज्ञापन निकालकर उप्र. अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा भर्ती किए गए ज्यादातर टेक्नीशियन की परीक्षा रद की जाए। 4200 ग्रेड पे दिया जाए जिला कोषाध्यक्ष अनीता सिंह कहा कि सरकार एलटी को 4200 ग्रेड पे दे। जिला मंत्री संतोष कुमार जौहरी ने कहा कि लखनऊ की प्रयोगशाला की सूक्ष्मदर्शी अर्बन सीएचसी व पीएचसी पर ठीक तरह से कार्य नहीं कर रहा है, जिससे जांच में दिक्कत हो रही है। वरिष्ठ उपाध्यक्ष बीबी द्विवेदी व संयुक्त सचिव विजय कुमार गुप्ता ने मांग की कि संविदा पर भर्ती बंद करके नियमित कर्मचारी भर्ती हों।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lab technician