class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपनी जन्मभूमि फैजाबाद से कवि कुंवर नारायण का था गहरा नाता

अपनी जन्मभूमि से कवि कुंवर नारायण का था गहरा नाता

स्मृति शेष

जिले के तमाम लेखकों ने उनके निधन को बताया साहित्य के लिए अपूर्णनीय क्षति

फैजाबाद नगर में हुआ था उनका जन्म, अयोध्या राज परिवार के साहित्य समारोहों में आते थे कुंवर नारायण

फैजाबाद वरिष्ठ संवाददाता

प्रख्यात कवि, साहित्यकार व चिंतक कुंवर नारायण का जन्म फैजाबाद में 19 सितंबर 1927 को हुआ था। वे अपनी जन्मभूमि को कभी नहीं भूले थे। फैजाबाद जब वे आते तो अयोध्या जाना नहीं भूलते। हालांकि कई दशक से उनके परिवार का कोई सदस्य यहां निवास नहीं करता, लेकिन वे कुछ साल पहले तक अयोध्या आते रहते थे। अयोध्या के राज परिवार के कई साहित्यिक आयोजनों में भी उन्होंने हिस्सा लिया था।

अयोध्या राज परिवार के सदस्य एवं युवा कवि यतींद्र मिश्र ने बुधवार को बताया कि कुंवर नारायण का जन्म फैजाबाद में ही हुआ था। बड़े व्यवसायी विष्णु नारायण के पुत्र कुंवर नारायण जीवन के शुरुआती दौर में आचार्य नरेंद्र देव व आचार्य कृपलानी से बेहद प्रभावित रहे। उन्हें हिन्दी के सबसे बड़े कवि के रूप में मान्यता दी जाती है। ज्ञानपीठ व पद्मभूषण समेत अनगिनत राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय सम्मानों से विभूषित कुंवर नारायण का फैजाबाद शहर के मोतीबाग क्षेत्र में आवास है। हालांकि वहां पर वर्षों से कोई रहता नहीं है। अयोध्या के ऋणमोचन घाट पर उनके परिवार की लाल कोठी हुआ करती थी।

खुद यतींद्र मिश्र ने कुंवर नारायण पर चार पुस्तकों का संपादन किया है। अयोध्या राज परिवार से जुड़े विमला देवी फाउंडेशन के वह संस्थापक सदस्य भी थे। विमला देवी फाउंडेशन की ओर से प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले वार्षिक समारोह में भी वे कुछ वर्ष पूर्व तक शिरकत किया करते थे। अयोध्या नरेश बिमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्र के अलावा जिले के कई साहित्यकारों ने कुंवर नारायण के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है और इसे हिन्दी साहित्य के लिये अपूर्णनीय क्षति बताया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Kunwar Narayan's deep relationship with his native Faizabad
बिना चले ही 17 घंटे लेट हो गई गोरखपुर सिकंदराबाद एक्सप्रेसफिल्म ‘पद्मावती की रिलीज पर पुलिस को सतर्कता बरतने के निर्देश