KGMU staff mixed patient with family members - केजीएमयू के कर्मचारियों ने मरीज को परिवारीजनों से मिलाया DA Image
20 नबम्बर, 2019|2:42|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

केजीएमयू के कर्मचारियों ने मरीज को परिवारीजनों से मिलाया

- न्यूरो विभाग में लावारिस में मरीज को किया गया था भर्ती - काकोरी के पास बेहोशी हालत में मिला था मरीज लखनऊ। निज संवाददाता केजीएमयू के न्यूरो विभाग के डॉक्टरों ने न सिर्फ मरीज का इलाज कर नया जीवन दिया। बल्कि मरीज को उसके बिछड़े परिवार से भी मिलाया। इस नेक काम में केजीएमयू के डॉक्टर से लेकर कर्मचारियों ने कड़ी मशक्कत की। मरीज को तीमारदार से मिलाने के बाद कर्मचारियों ने राहत की सांस ली। पुलिस की मौजूदगी में मरीज को परिवारीजनों के सुपुर्द किया। 18 जुलाई को लावारिस हुआ था भर्ती काकोरी की पुलिस ने 18 जुलाई को बेहोशी और लावारिस हालत में एक मरीज को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया था। मरीज के सिर पर भारी वस्तु से गहरी चोट लगी थी, जिसकी वजह से उसे बहुत खून निकला था और ज्यादा याद नहीं था। न्यूरो सर्जरी विभाग की टीम ने मरीज का ऑपरेशन किया। होश में आने के बाद मरीज ने अपना नाम रफीक और पिता का अमर हक बताया। न्यूरो सर्जरी के प्रमुख डॉ. बीके ओझा के मुताबिक मरीज अपने पता नहीं बता पा रहा था। कैम्पवेल रोड चोरघाटी से जुटाई जानकारी अगले दिन मरीज को होश आया। तब उसने डॉक्टर और कर्मचारी को पते के रूप में बातचीत के दौरान कैम्पवेल रोड और चोरघाटी का नाम लिया। डॉक्टरों ने गूगल पर देखा तो यह नाम सही था। इस पर न्यूरो विभाग के ही कर्मचारी अतुल, अंशुल, रॉबिन, अकील ने डॉक्टरों के कहने पर संबंधित इलाके में मरीज के परिवारीजनों की तलाश शुरू की। दो दिन की कड़ी पड़ताल और मशक्कत के बाद आखिरकार अतुल ने रफीक के परिवारीजनों की तलाश कर ली। पता चला कि रफीक आसाम के रहने वाले हैं। यहां कैम्पवेल रोड पर वह बहन के घर आए थे। इस दौरान वह सड़क पर जख्मी हो गए। पुलिस की मौजूदगी में मरीज को उसके रिश्तेदारों को सौंप दिया गया है। डॉ. ओझा ने अपने कर्मचारियों को बधाई देते हुए कहा कि टीम ने पेशेंट केयर के साथ सामाजिक दायित्व निभाया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:KGMU staff mixed patient with family members