DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गरीब बंदियों को पैरवी के लिए नि:शुल्क वकील मिलेंगे

-जिला जेल में आयोजित शिविर में बंदियों को उनके अधिकारों की जानकारी दीलखनऊ। निज संवाददाताजेल में बंद तमाम गरीब बंदी जो मुकदमे की पैरवी के लिए अपना वकील करने में सक्षम नही है। ऐसे बंदियों को सरकार जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की मदद से वकील मुहैया कराती है। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अधिवक्ताओं द्वारा जिला जेल में आयोजित दो दिवसीय शिविर में कैदियों को विधिक परामर्श के साथ ही उनके अधिकारों के प्रति जागरुक किया गया। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा नामित अधिवक्ता किरन कठेरिया और भावना डी सिंह ने कहा कि जेल में रहते हुए महिला एवं पुरुष बंदियों के अधिकार होते हैं। बंदियों को किसी भी प्रकार की दिक्कत होने पर वह कोर्ट की मदद ले सकते हैं। बंदियों को हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में अपील करने का अधिकार है। अधिवक्ताओं ने जेल प्रशासन से उन बंदियों का ब्योरा मांगा है जो पैरवी के लिए अपना वकील करने में सक्षम नही हैं। जेलर केके गुप्ता, डिप्टी जेलर हरवंश पाण्डेय द्वारा शिविर में मौजूद करीब 250 बंदियों को बताया कि भोजन, इलाज व अन्य कोई दिक्कत है तो वो अधिकारियों को बतायें। वरिष्ठ जेल अधीक्षक पीएन पाण्डेय बताते हैं कि बहुत से गरीब बंदी हैं जो निजी वकील करने में सक्षम नही हैं। उनकी लिस्ट प्राधिकरण को भेज दी गई है। साथ ही साप्ताहिक परेड के अलावा बैरक वार बंदियों को इसके बारे में जानकारी दी जाती है। ताकि जेल आने वाले नये बंदी भी जागरूक रहें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:jail