DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रायबरेली में आईटीबीपी जवान का शव पहुंचा

चीन बार्डर पर दिवंगत हुए जवान का शव पहुंचे ही कोहराम मच गया। पत्नी विजय लक्ष्मी पति के शव को देख दौड़ पड़ी। आईटीबीपी के जवानों ने जैसे ही ताबूत वाहन से नीचे उतारा वैसे शहीद अरूण अमर रहे के नारे से आसमान गूंज उठा। आंखों से बहते आंसुओं के बीच हर कोई जवान की शहादत पर गर्व महसूस कर रहा था। डीएम शकुंतला गौतम व एसपी कुंतल किशोर गहलोत ने जवान की पत्नी व मां से मिलकर ढांढस बधया। उन्होंने सरकार की ओर से तीस लाख रुपये दिए जाने की घोषणा की।

देर शाम करीब आठ बजे बाड़ी पहुंची आईटीबीपी के इंस्पेक्टर अनिल कुमार पाठक, लखनऊ में तैनात बटालियन इंचार्ज मस्तराम आईटीबीपी के वाहन से शव लेकर उसके पैतृक आवास पहुंचे। वाहन से शव उतार कर उसके आवास पर रखा। शव पहुंचते ही पूरा जो भी वहां से उसके आंखों से आंसू छलक पड़े। पत्नी विजय लक्ष्मी शव को पकड़ कर रो रही थी तो बेटा अभिषेक पिता के गम बेसुध हो गया। करुन क्रंदन सुन जो भी वहां तक वह रो पड़ा। इसके बाद जवान का शव दर्शन के लिए बारात घर कंचाना में रखा गया है। वहीं डीएम, एसपी, क्षेत्रीय विधायक मयंकेश्वर शरण सिंह समेत अन्य लोगों ने पुष्प चक्र आर्पित कर जवान को श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर एसडीएम तिलोई गिरजेश कुमार चौधरी, सीओ मुसाफिर खाना सूक्ष्म प्रकाश, दयाशंकर तिवारी, प्रदीप सिंघल, पालिका अध्यक्ष महेश प्रसाद सोनकर, पूर्व ब्लाक प्रमुख रमेश कुमार सिंह, भाजपा नेता धर्मेश मिश्रा, जफर हैदर नकवी, अशोक कुमार मौर्या, गौरव श्रीवास्तव, राम हौसला सोनकर अन्य लोग मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ITBP's inspector body brought to his house