DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजधानी में बढ़ा प्रदूषण, लालबाग की स्थिति यथावत

राजधानी में प्रदूषण की मात्रा में गुरुवार को और वृद्धि हो गई है। बुधवार को यहां एक्यूआई (एयर क्वालिटी इंडेक्स) 196 माइक्रोग्राम प्रतिघनमीटर थी जो बढ़कर 222 माइक्रोग्राम पहुंच गई है। सबसे ज्यादा खराब स्थिति लालबाग की बनी हुई है। यहां एक्यूआई 345 माइक्रोग्राम रिकार्ड की गई जो स्वास्थ्य के बहुत ही खतरनाक है।

राजधानी में गुरुवार को भी सुबह से धुंध छायी रही। केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों के मुताबिक सबसे ज्यादा प्रदूषण हजरतगंज व आसपास के इलाकों में है। यहां लालबाग में लगे उपकरण में पीएम2.5 की औसत मात्रा 345 माइक्रोग्राम रिकार्ड की गई। इसके पीछे प्रमुख कारण मेट्रो का निर्माण व डयवर्जन से वाहनों का जाम माना जा रहा है। सेंट्रल स्कूल अलीगंज में मध्यम स्थिति बनी रही। यहां पर एक्यूआई 192 माइक्रोग्राम रिकार्ड की गई। तालकटोरा में थोड़ी खराब स्थिति रही। यहां की हवा खराब की श्रेणी में पहुंच गई है। यहां एक्यूआई 236 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर दर्ज की गई। सबसे बेहतर स्थिति निशातगंज की रही लेकिन बुधवार की तुलना में यहां पर अधिक प्रदूषण रिकार्ड किया गया। बुधवार को यहां एक्यूआई 85 माइक्रोग्राम रिकार्ड किया गया था जो गुरुवार को 122 माइक्रोग्राम पहुंच गया।

-------------

यह प्रदूषण नहीं है बल्कि आंधी-पानी की संभावना के मद्देनजर आसमान में धुंध बनी हुई है। तापमान अधिक होने व हवा चलने के कारण प्रदूषण के कण नीचे नहीं टिक पा रहे हैं। प्रदूषण की मात्रा ठंड में अधिक होती है। उस समय मौसम ठंडा होने के साथ हवा का चलना भी बंद हो जाता है।

डा. राम करन, क्षेत्रीय अधिकारी, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड।

--------------

शहर के विभिन्न क्षेत्रों में एक्यूआई की स्थिति (माइक्रोग्राम में)

क्षेत्र अधिकतम औसत

लालबाग 445 345

केन्द्रीय विद्यालय अलीगंज 314 192

तालकटोरा 333 236

निशातगंज 392 122

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Increased pollution in the capital, Lalbagh's situation remains unchanged