अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नवाबगंज में शिव बारात लेकर झूमते गाते निकले भक्त 

महाशिवरात्रि के पर्व पर नवाबगंज कस्बे में आयोजित होने वाली परम्परागत शिव बारात इस बार भी हिन्दू युवा वाहिनी की अगुवाई में हर्षोल्लास के साथ निकाली गई। आकर्षक झांकियों और दूल्हों से सजी इस बारात में शामिल लोग सदावसन्तम के महाभाव में झूमते नजर आये। इस अनोखे बारात की अगुवाई चेयरमैन डा. सत्येंद्र सिंह, समाज कल्याण मंत्री के जनसंपर्क अधिकारी वेद प्रकाश दूबे और हियुवा के प्रदेश उपाध्यक्ष अशोक सिंह व जिलाध्यक्ष शारदकान्त पाण्डेय ने की।
कस्बे के निकट फुटहा शिवाला से निकली इस बारात का लोगों द्वारा  जगह-जगह पर स्वागत करके जलपान कराया गया। पूरे कस्बे का भ्रमण करने के बाद रामलीला मैदान में पहुंच कर बारात  सामूहिक विवाह समारोह मे तब्दील हो गयी। दूल्हों का स्वागत करते हुये कमेटी के लोग जयमाल स्टेज पर ले गये। जयमाल के साथ ही विवाहित जोड़ों पर आशीर्वाद की वर्षा हुई। 
पूर्व चेयरमैन अंजू सिंह, डा. अशोक सिंह, शारदकान्त पाण्डेय व दिलीप चौधरी ने सबसे पहले सौगात देकर  समारोह की शुरुआत की। बुधवार देर रात तक  सामूहिक विवाह का कार्यक्रम चलता रहा। कार्यक्रम के संचालन में सीताराम गुप्ता, वीरेन्द्र कसौधन, संजय अग्रवाल, श्री किशन, राम नरायन, रामबाबू, पप्पू केसरवानी, सरवन सोनी और रिंकू बाबा आदि भी मौजूद रहे।
सीता, नीतू व सरिता के हाथ हुए पीले 
निर्धन परिवारों के कन्याओं के रामलीला कमेटी द्वारा महाशिवरात्रि पर कराये जाने वाले विवाह के क्रम में इस बार होलापुर गांव की सीतारानी का बलजीत व महंगूपुर गांव की नीतू का विनोद और वजीरगंज क्षेत्र के मझारा गांव की सरिता का सोहन के साथ सात फेरों का बंधन हुआ। सभी को दान दहेज भी कमेटी और गणमान्य नागरिकों द्वारा गया। 
प्रशासन ने ली राहत की सांस

पहले आयोजन से ही पुलिस व प्रसाशन के साथ कतिपय गतिरोध के चलते हर साल इस बरात को शान्तिपूर्वक निपटाने की चुनौती हो जाती है। बुधवार शाम भी एसडीम तरबगंज क्षेत्राधिकारी ब्रह्म सिंह, कोतवाल सदानंद सिंह, एसआई डी पी सिंह  कस्बा चौकी प्रभारी विपिन सिंह व भारी संख्या मे महिला व पुरुष कांस्टेबल यात्रा की सुरक्षा में लगे रहे। जिनको कमेटी की ओर से सम्मानित किया गया।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:In the Nawabgunj the Shiva procession took place with the singing of devotees