DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  लखनऊ  ›  सरोजनीनगर में दबंगों ने महिलाओं को दौड़ा कर पीटा
लखनऊ

सरोजनीनगर में दबंगों ने महिलाओं को दौड़ा कर पीटा

हिन्दुस्तान टीम,लखनऊPublished By: Newswrap
Mon, 21 Jun 2021 03:02 AM
सरोजनीनगर में दबंगों ने महिलाओं को दौड़ा कर पीटा

गर्भवती के पेट पर पैर मारा, पुलिस ने टरकाया

पीड़ित ने पिटाई का वीडियो वायरल किया, कमिश्नर के आदेश पर मुकदमा दर्ज

आनन फानन दो आरोपियों को जेल भेजा, फरार की तलाश

लखनऊ। मुख्य संवाददाता

सरोजनीनगर के बदालीखेड़ा में मामूली विवाद में दबंग पिता-पुत्र ने आधा दर्जन लोगों के साथ पड़ोसी के घर उत्पात मचाया। इन लोगों ने परिवार की महिलाओं को दौड़ा कर पीटा। एक गर्भवती महिला के पेट पर पैर मारा। परिवार के अन्य सदस्यों पर रॉड से हमला किया। शनिवार को हुई इस घटना की शिकायत थाने पर की गई पर पुलिस ने टरका दिया। इस पर पीड़ित परिवार ने मारपीट का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। पुलिस कमिश्नर के आदेश पर पुलिस ने इस मामले में एफआईआर दर्ज कर दो हमलावरों को गिरफ्तार कर लिया। अन्य की तलाश की जा रही है।

बदालीखेड़ा निवासी शत्रुधन राय ने बताया कि उनका बेटा मयंक राय भोपाल में रहता है। कई दिनों से पड़ोस में रहने वाला राजा एक लड़की की बातचीत की रिकार्डिंग सबको सुना रहा था और कहता था कि मयंक इस लड़की से बात कर रहा है। जबकि उनके बेटे ने कहा कि रिकार्डिंग में उसकी आवाज नहीं है। जब राजा नहीं माना और रिकार्डिग लगातार सुनाता रहा तो शत्रधुन पड़ोस में ही रहने वाले राजा के पिता अर्जुन से शिकायत करने गये। इस पर अर्जुन बेटे की गलती मानने को तैयार नहीं हुये और शत्रधुन से झगड़ा करने लगे। गालियां देने पर शत्रुधन ने विरोध किया। इस पर अर्जुन, राजा ने विष्णु, प्रभु और बोखी समेत कई लोगों के साथ शत्रधुन को पीटना शुरू कर दिया। शोर सुनकर पत्नी लक्ष्मी राय, गर्भवती बेटी शांति, छोटी बेटी रोशनी और भाई बचाव में दौड़ा तो दबंगों ने उन पर भी हमला बोल दिया। शांति को पैर से मारकर नीचे गिरा दिया।

पुलिस ने टरकाया तो वीडियो वायरल किया

शत्रुधन का आरोप है कि पुलिस ने उनकी शिकायत नहीं सुनी। तहरीर नहीं ली। अर्जुन का इलाके में दबदबा है। रविवार सुबह मयंक भोपाल से यहां पहुंचा। वह भी तहरीर लेकर थाने गया लेकिन सुनवाई नहीं हुई। इस पर मयंक ने पिटाई का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर न्याय मांगा। इसके कुछ देर बाद ही पुलिस कमिश्नर ने वीडियो का संज्ञान लिया और सरोजनीनगर इंस्पेक्टर को एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया। इस मामले में इंस्पेक्टर महेन्द्र सिंह का कहना है कि वह छुट्टी पर थे। पीड़ित थाने में किससे मिला था, इस बारे में पता करेंगे। फिलहाल इस मामले में एफआईआर दर्ज कर दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस का कहना है कि दोनो पक्ष करीबी रिश्तेदार भी है। मूल रूप से कोलकाता के रहने वाले हैं और इनके बीच पहले भी विवाद हो चुका है।

संबंधित खबरें