If did not accept the demands of supervisors then the agitation was fixed - गन्ना पर्यवेक्षकों की मांगे नहीं मानी तो आंदोलन तय DA Image
16 नबम्बर, 2019|5:15|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गन्ना पर्यवेक्षकों की मांगे नहीं मानी तो आंदोलन तय

उत्तर प्रदेश गन्ना पर्यवेक्षक संघ की बैठक रविवार को दारुलशफा के कॉमन हाल में हुई। बैठक में प्रदेश के विभिन्न जनपदों से बड़ी संख्या में गन्ना पर्यवेक्षक पहुंचे। सभा को सम्बोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष मनोज कुमार राय ने कहा कि स्थानान्तरण व सेवानियमावली में गृह जनपदों से गन्ना पर्यवेक्षकों का स्थानान्तरण कर उत्पीड़न किया जा रहा है। उन्होंने चेताया कि पर्यवेक्षकों की लम्बित मांगे नहीं मानी गयीं तो प्रदेश व्यापी आन्दोलन किया जायेगा। गन्ना विकास को धरातल पर मूर्तरूप देने वाला गन्ना पर्यवेक्षक उपेक्षा का शिकार हो रहा है। नयी नियमावली में गृह जनपद के बाहर तैनाती का काला कानून बनाकर मनमाना स्थानान्तरण किया जा रहा है। यदि गन्ना कार्यकारिणी की बैठक में वरिष्ठ उपाध्यक्ष चन्द्रशेखर, संगठन मंत्री सूरज पाल सिंह, अमित सिंह, श्रीराम माथुर, अरूण तोमर, रतन सिंह आदि उपस्थित रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: If did not accept the demands of supervisors then the agitation was fixed