DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनएचएम से वेतन ले रहे पूरा, कर्मचारियों को बांट रहे आधा

- राजधानी के सभी सरकारी कर्मचारियों में आक्रोश, आंदोलन की रणनीति बना रहे - सरकारी अस्पतालों में मैनपॉवर आपूर्ति करने वाली कंपनी ने दो माह से तीन से चार हजार रुपए कटौती शुरू की लखनऊ। निज संवाददाता राजधानी के बलरामपुर, सिविल, लोहिया समेत अन्य सरकारी अस्पतालों में संविदा पर काम कर रहे कर्मचारी वेतन में कटौती को लेकर आक्रोशित हैं। सभी अस्पतालों के ये कर्मचारी एकजुट हो गए हैं और बड़े आंदोलन की तैयारी में हैं। इन कर्मचारियों का कहना है कि ऑफर लेटर के मुताबिक वेतन न देकर अचानक तीन से चार हजार रुपए की कटौती करना और आवाज बुलंद करने पर नौकरी से हटाने की धमकी देना कंपनी के अफसरों की हठधर्मिता है। उनकी तानाशाही नहीं चलेगी। इन कर्मचारियों ने एनएचएम से रिकॉर्ड निकलवाया है तो कंपनी वहां से दोगुना वेतन ले रही है, जबकि कर्मचारियों को आधा वेतन दिया जा रहा है। सभी अस्पतालों के प्रमुखों ने भेजा पत्र ई-हॉस्पिटल सिस्टम के तहत दिल्ली की सिल्वर टच टेक्नोलॉजी लिमिटेड कंपनी राजधानी समेत प्रदेश के कई सरकारी अस्पतालों में मैनपॉवर की आपूर्ति कर रही है। इन कंपनी के तहत शहर के लोहिया, सिविल, बलरामपुर समेत कई सरकारी अस्पतालों में कर्मचारी डाटा एक्जीक्यूटिव, सीनियर सपोर्ट एक्जीक्यूटिव के पद पर कार्यरत हैं। इन कर्मचारियों का आरोप है कि पिछले दो माह से डीई, एसएसई के वेतन से तीन से चार हजार रुपए अचानक कटौती कंपनी ने कर दी। कर्मचारियों द्वारा इसकी शिकायत अस्पतालों के प्रमुखों से की गई। इसको गंभीरता से संज्ञान में लेते हुए अस्पतालों के प्रमुखों ने एनएचएम के एमडी, मिशन निदेशक और निजी कंपनी के अधिकारियों से भी पत्राचार किया है। गलत तरीके से वेतन कटौती पर इन प्रमुखों ने नाराजगी भी जाहिर की है। एकजुट हुए कर्मचारी बलरामपुर अस्पताल के कर्मचारियों को नौकरी से हटाने की धमकी कंपनी के अधिकारियों द्वारा दिए जाने से सभी सरकारी अस्पतालों के संविदा कर्मचारी एकजुट हो गए हैं। पिछले चार दिन से सभी कर्मचारी लगातार आपस में संपर्क बनाते हुए पूरे प्रदेश के कर्मचारियों को एकजुट कर रहे हैं। कटौती बंद कर पूरा वेतन देने जल्द नहीं दिया गया तो सभी कर्मचारी एक साथ कामकाज ठप करने की रणनीति का खाका तैयार कर रहे हैं। इन कर्मचारियों ने बताया कि कंपनी एनएचएम से डीई के लिए 14 और एसएसई के लिए 18 हजार रुपए वेतन ले रही है, जबकि कंपनी के कर्मचारियों को पिछले दो माह से डीई के 10 के बजाए 59 सौ और एसएसई के 14 के बजाए 93 सौ रुपए तक दिए गए। वर्जन इस मामले की शिकायत मिली है। सिल्वर टच कंपनी को नेशनल इनफॉरमेटिक्स सेंटर (एनआईसी) के तहत चयनित किया गया है। एनआईसी के अधिकारियों से मामले को तुरंत निस्तारित करने को कहा है। सोमवार या मंगलवार में मामले का निस्तारण हो सकता है। पंकज कुमार, एमडी, एनएचएम

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:hospitals