अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रैन बसेरा छोड़ अस्पताल में दूसरा ठिकाना तलाशते रहे तीमारदार

- बारिश से मरीजों और तीमारदारों को झेलनी पड़ी मुसीबत - सबसे ज्यादा दिक्कत सिविल अस्पताल में हुई, बलरामपुर समेत अन्य अस्पतालों में भी परेशानी लखनऊ। निज संवाददाता राजधानी में लगातार हो रही बारिश से अस्पतालों के रैन बसेरा में ठहरने वाले तीमारदारों की परेशानी काफी बढ़ गई है। बारिश का पानी घुसने से तीमारदार रैन बसेरा छोड़ने को मजबूर हो गए हैं। वह अस्पताल में मरीज की सेवा करने के लिए रैन बसेरा छोड़ दूसरा ठिकाना तलाशने में लगे हैं। वहीं, वार्डों में भर्ती मरीजों को भी बारिश से परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सिविल अस्पताल में सबसे ज्यादा असर सिविल अस्पताल में बने रैन बसेरा में सबसे ज्यादा दिक्कत है। वहां लगातार बारिश से पानी टपक रहा है। स्थिति यह है कि तीमारदारों के कपड़े, जूता, बिस्तर व अन्य सामान भीग गया है। यहां पर अस्पताल प्रशासन ने एक माह पूर्व ही रेन बसेरा सही करने का निर्देश जारी किया था, लेकिन अभी तक उसकी स्थिति नहीं सही की जा सकी है। टीनशेड से रैन बसेरा का निर्माण एक माह पूर्व कराया गया था। टीनशेड में छेद होने की वजह से पानी अंदर आ रहा है। रैन बसेरा में रुके गोण्डा निवासी राम प्रसाद ने बताया कि बेटी के इलाज के लिए वह काफी दिनों से यहां रुके हैं। बारिश का पानी आने से अस्पताल परिसर में इधर-उधर लेटने-बैठने को मजबूर कर दिया है। सिविल के निदेशक डॉ. एचएस दानू ने बताया कि मरीजों और तीमारदारों को बारिश से बचाने के लिए रैन बसेरा व वार्डों को सही कराने का निर्देश दिया गया है। अन्य अस्पताल भी रहे प्रभावित बारिश से सिविल अस्पताल के अलावा अन्य सरकारी अस्पतालों में भी मरीजों, तीमारदारों को काफी दिक्कत हुई। बलरामपुर अस्पताल, लोकबंधु अस्पताल, रानी लक्ष्मी बाई संयुक्त चिकित्सालय, केजीएमयू में बने रैन बसेरा में भी तीमारदारों को बारिश के पानी से दिक्कत हुई। बारिश का पानी जगह-जगह से बसेरा में अंदर घुस गया। जिससे तीमारदारों के बिस्तर, कपड़े अन्य सामान भीग गया। उसे सुखाने का भी कोई रास्ता नहीं है। रैन बसेरा में पानी आने से तीमारदार अस्पतालों में जगह-जगह ठहरने के लिए भटक रहे हैं। मुख्य गेट पर भी पानी राजधानी में लगातार हो रही बारिश से अस्पतालों के गेट व अन्य स्थानों पर पानी भर गया। बारिश का पानी भरने से मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ा। वहीं, उनके तीमारदार को भी दिक्कत हुई। रविवार होने की वजह से ज्यादातर कर्मचारी भी छुट्टी पर रहे, जिससे साफ-सफाई पर भी असर पड़ा। बारिश से सिविल, बलरामपुर, लोकबंधु अस्पताल, केजीएमयू ट्रॉमा सेंटर के मुख्य गेट के सामने ढाल होने से पानी भरा रहा। जिससे आने-जाने में मरीजों व तीमारदारों को दिक्कत हुई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:hospital