DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरोजनीनगर पीएचसी में आग लगने से हडकम्प

सरोजनीनगर

-अफरा-तफरी के बीच तीन प्रसूताएं नवजातों को लेकर अस्पताल से बाहर भागीं

-देर में पहुंची फायर ब्रिगेड, केन्द्र में स्थित आग नियंत्रण उपकरणों से बुझाई आग

-सहमी प्रसूताओं को दूसरे अस्पतालों में कराया गया रेफर

केजीएमयू की ओर से संचालित सरोजनीनगर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में बुधवार को अचानक लगी आग से हड़कम्प मच गया। महिला वार्ड में भर्ती तीन प्रसूताएं अपने नवजातों को लेकर अस्पताल के बाहर निकल खड़ी हुईं। घटना से डरी प्रसूताओं को दूसरे अस्प्तालों में रिफर कराया गया।

आग लगने का कारण बिजली की केबिल में हुई शॉर्ट सर्किट बताई जा रही है। जिसके बाद प्लास्टिक टीन शेड जल गई। आग ने टीन शेड के नीचे रखे जनरेटर को अपनी चपेट में ले लिया। कुछ ही देर में पूरी प्लास्टिक टीन शेड व जनरेटर जलने लगा। इससे पूरे अस्पताल में अफरा-तफरी मच गई। आनन-फानन घटना की सूचना फायर कंट्रोल रूम को दी गई लेकिन जब तक दमकल की गाड़ी मौके पर पहुंचती तब तक अस्पताल कर्मियों ने सीएचसी के आग नियंत्रण उपकरणों से आग पर काबू पा लिया। सरोजनीनगर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के ओपीडी में स्वास्थ्य केंद्र चिकित्सा प्रभारी सुनीता जौहरी बुधवार को मरीज देख रही थी। इसी बीच सुबह 11:15 बजे अस्पताल बिल्डिंग के बीच रखे जनरेटर के ऊपर मौजूद प्लास्टिक टीन शेड के ऊपर से गुजर रहे विद्युत केबिल में अचानक शार्ट सर्किट से आग लग गई।

महिला वार्ड में मच गया हल्ला, बेड छोड़ भागी प्रसूताएं

जिस समय यह घटना हुई उस समय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में मौजूद महिला वार्ड में तीन प्रसूताएं (सोहरामऊ के दतौली निवासी प्रेम कांति, बनी गांव की शबाना परवीन और प्यारेपुर-मौंदा की पूजा विश्वकर्मा) दहशत में आ गई और अपने नवजात शिशुओं व तीमारदारों के साथ वार्ड से भागकर बाहर खड़ी हुई। आरोप है कि प्रसूताएं व उनके परिजन करीब 2:30 बजे तक अपने नवजात को लेकर बाहर ही पड़े रहे अस्पताल प्रशासन ने उनकी कोई सुधि नहीं ली। बिजली की समस्या को देखते हुए करीब तीन बजे प्रेम कांति और शबाना को बगल में ही सरोजनीनगर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भेज दिया गया और पूजा को लोकबंधु अस्पताल के लिए रेफर कराया गया।

सीएचसी में ड्रिप लगे मरीज भी परिसर के बाहर आ गये

सरोजनीनगर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र एक ही परिसर में होने के कारण इस घटना से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के मरीजों में भी हड़कंप मच गया। यहां जनरल वार्ड में भर्ती रहीमाबाद के परशुराम, बांगरमऊ के राजू और सुनीता के ड्रिप लगी हुई थी लेकिन वह ड्रिप सहित वार्ड छोड़कर बाहर भाग खड़े हुए। दूसरी मंजिल स्थित महिला वार्ड में भर्ती प्रसूताएं (किशनपुर- कौड़िया की पिंकी, नरेरा की रूपा व टिकरन खेड़ा की सुनीता) अपने नवजात सहित अस्पताल छोड़कर बाहर भाग खड़ी हुई। बाद में आग काबू होने पर वापस इनको अपने अपने वार्ड में भेज दिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:hospital