अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वीपी अशोक ने दिया वीआरएस आवेदन

- पुलिस महानिदेशक मुख्यालय ने कहा, अधिकारिक तौर पर मिल गया आवेदन

राज्य मुख्यालय- प्रमुख संवाददाता

पुलिस प्रशिक्षण निदेशालय में तैनात अपर पुलिस अधीक्षक वीपी अशोक ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति(वीआरएस) का आवेदन अधिकृत तौर पर भेज दिया है। पुलिस महानिदेशालय ने उनके आवेदन मिलने की पुष्टि कर दी है। यह आवेदन स्वीकृति के लिए शासन को भेजा जाएगा। सरकार की मंजूरी के बाद उन्हें सेवानिवृत्ति दे दी जाएगी।

डीजीपी के जनसंपर्क अधिकारी एएसपी राहुल श्रीवास्तव ने बताया कि डीजीपी मुख्यालय को मंगलवार को उनका वीआरएस के लिए पत्र मिला है। दरअसल एएसपी ने सोमवार को देश भर में दलित आंदोलन के दौरान हुई हिंसा पर असंतोष जाहिर करते हुए राष्ट्रपति को संबोधित पत्र लिखा था। इसमें उन्होंने कई समस्याओं को उठाते हुए सुधार की मांग उठाई। इस पत्र में ही उन्होंने इस्तीफा देने या वीआरएस देने की गुजारिश भी कर दी। उन्होंने अपने पत्र की एक प्रति प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक और डीजीपी ओपी सिंह को भी भेजी थी। हालांकि इस पत्र को अधिकृत तौर पर स्वीकार नहीं किया गया।

मंगलवार को पुलिस महानिदेशक मुख्यालय के अपर पुलिस महानिदेशक प्रशासन की ओर से पुष्टि की गई कि एएसपी बीपी अशोक के वीआरएस का आवेदन मिल गया है। एएसपी बीपी अशोक महकमे में बसपा सरकार के करीबी अधिकारियों में गिने जाते हैं। भाजपा सरकार बनने के बाद से वह पुलिस प्रशिक्षण महानिदेशालय में तैनात थे। वह पुलिस महकमे में हमेशा दलितों की आवाज बुलंद करते रहे हैं। वह पूर्व आईपीएस देवी सिंह अशोक के बेटे हैं। उनके पिता देवी सिंह अशोक भी बीएस-4 व अन्य दलित संगठनों से जुड़े रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:home