class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आजमगढ़, जौनपुर और बांदा के सरकारी अस्पतालों को गुणवत्ता प्रमाण पत्र

- तीन अस्पतालों को मिला भारतीय गुणवत्ता परिषद का इंट्रीलेवल एक्रीडिटेशन प्रमाण पत्र

प्रदेश के तीन सरकारी जिला अस्पताल बांदा, जौनपुर और महिला अस्पताल आजमगढ़ को भारतीय गुणवत्ता परिषद ने एनएबीएच का इंट्रीलेवल एक्रीडिटेशन प्रमाण पत्र दिया है। यह प्रमाण-पत्र इस बात के लिए प्रदान किया जाता कि इन अस्पतालों में जो स्वास्थ्य सुविधाएं मिल रही हैं उनमें गुणात्मक सुधार हुआ है। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने यह जानकारी दी।

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि 14 नवंबर को यह प्रमाण पत्र राज्य सरकार के इन अस्पतालों को मिला है। सरकार प्रदेश के सभी अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने में जुटी है। इन्हीं प्रयासों के चलते फिलहाल तीन अस्पतालों को गुणवत्ता प्रमाण पत्र मिला है। हमारी कोशिश है कि सभी अस्पतालों में गुणवत्ता से इलाज हो।

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि उत्तर प्रदेश हेल्थ सिस्टम्स स्ट्रेन्थनिंग परियोजना प्रदेश के 51 जिला अस्पतालों को नेशनल एक्रीडिटेशन बोर्ड फार हास्पिटल एण्ड हेल्थ केयर (एनएबीएच) के तहत गुणवत्ता, सक्षम और उत्तरदायी बनाने के लिए प्रयासरत है। इस परियोजना से इन अस्पतालों का विस्तृत आंकलन कर जरूरी स्टाफ, उपकरणों-संसाधनों की आपूर्ति, मरम्मत, अस्पतालों की सामान्य प्रक्रियाओं में सुधार के साथ रोगियों की सुविधा व सुरक्षा के लक्ष्य को पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है।

मंत्री ने बताया कि अधिकारियों प्रदेश के अन्य अस्पतालों को भी इसी प्रकार से प्रमाणीकृत कराए जाने की कवायद करने के निर्देश दिए गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:health
प्रदूषण से दिल के मरीजों में बढ़ी बेचैनी, आईसीयू फुलराज्यपाल ने कानपुर के कुलपति का कार्यकाल बढ़ाया