DA Image
21 अक्तूबर, 2020|6:49|IST

अगली स्टोरी

हाथरस कांड : जांच रिपोर्ट में दुष्कर्म की पुष्टि नहीं

default image

--मेडिकल रिपोर्ट, सफदरजंग हॉस्पिटल की पोस्टमार्टम रिपोर्ट व एफएसएल रिपोर्ट में सामने आया तथ्य --सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने वालों पर है सीधी नजर : प्रशांत कुमार प्रमुख संवाददाता - राज्य मुख्यालय प्रदेश के एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने गुरुवार को कहा कि हाथरस मामले में बालिका की मौत की वजह गले में चोट लगने से होने वाला ट्रामा है। उसके साथ दुष्कर्म की घटना नहीं हुई थी। प्रारंभिक मेडिकल रिपोर्ट, दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल की पोस्टमार्टम रिपोर्ट तथा विधि विज्ञान प्रयोगशाला (एफएसएल) में हुए गहन परीक्षण की रिपोर्ट से इसकी पुष्टि हुई है। तीनों ही रिपोर्ट में बालिका के साथ दुष्कर्म के प्रमाण नहीं मिले हैं। उन्होंने बताया कि दिल्ली के अस्पताल से प्राप्त पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार पीड़िता की मृत्यु का कारण गले में चोट लगने से होने वाला ट्रॉमा है। पुलिस को अब एफएसएल की रिपोर्ट भी प्राप्त हो गई है। इस रिपोर्ट में यह स्पष्ट रूप से बताया गया है कि जो सैंपल एकत्रित किए गए थे, उससे दुष्कर्म की पुष्टि नहीं होती है। एडीजी ने कहा कि कतिपय अराजकतत्वों ने गलत नीयत से प्रदेश में जातीय तनाव पैदा करने के लिए माहौल खराब करने की कोशिश की। हालांकि पुलिस ने शुरू से इसमें ससमय प्रभावी कार्रवाई की। आगे भी विधिक कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि ऐसे लोगों की पहचान की जाएगी जो प्रदेश में सामाजिक सद्भाव बिगाड़ना और जातीय हिंसा फैलाना चाहते थे। जवाबदेह अधिकारियों के कहने के बावजूद वे अपने तरीके से गलत तथ्यों को पेश कर रहे थे। एसआईटी करेगी साजिश का पर्दाफाशएडीजी ने कहा कि हाथरस प्रकरण की संवेदनशीलता को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एसआईटी का गठन किया है। एसआईटी में गृह सचिव स्तर के अधिकारी, डीआईजी स्तर के अधिकारी और एक महिला एसपी स्तर के अधिकारी शामिल हैं। एसआईटी की तहकीकात में निश्चित ही साजिश का पर्दाफाश होगा। माहौल बिगाड़ने की कोशिश करने वालों की पड़ताल भी जारी है। मुख्यमंत्री ने हाथरस मामले की तह तक जाकर जांच करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि इस घटना के अपराधियों को ऐसा दंड मिले, जो आने वाले समय में नजीर बने। क्राइम इन इंडिया के ताजा आंकड़ों का हवाला देते हुए एडीजी लॉ एंड ऑर्डर ने कहा कि महिला संबंधी अपराध में जो कनविक्शन की दर है, इस मामले में उत्तर प्रदेश 2018 में भी प्रथम स्थान पर था और इस वर्ष भी है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hathras incident rape report not confirmed