अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राज्यपाल ने प्रशिक्षु पीसीएस अफसरों से कहा, सबूत के साथ रखें अपनी बात

राज्यपाल ने प्रशिक्षु पीसीएस अफसरों से कहा, सबूत के साथ रखें अपनी बात

राज्यपाल राम नाईक ने प्रशिक्षु पीसीएस अफसरों से कहा कि पीड़ित फरियादी के साथ अच्छा बर्ताव करें। गलत परम्पराओं को अपने स्तर पर सुधारने की कोशिश करें। जो भी बात या काम करें उसे पूरे सबूत के साथ रखें, जिससे लोगों का आप पर विश्वास बढ़े।

शुक्रवार को राजभवन में राज्यपाल श्री नाईक से सम्मिलित राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा के प्रशिक्षु अधिकारी शिष्टाचारिक भेंट करने के लिए आए थे। श्री नाईक ने अपने सार्वजनिक जीवन से जुड़े कुछ अनुभव साझा करते हुए कहा कि कठिन परिस्थितियों में संयम से काम लें। सार्वजनिक स्थान पर अपने अधीनस्थों की अवमानना न करें, बल्कि उन्हें सुधारने का प्रयास करें। राज्यपाल ने प्रशिक्षु अधिकारियों को ‘चरैवेति! चरैवेति!! का मर्म समझाते हुए व्यक्तित्व विकास के चार मंत्र भी बताए। उन्होंने कहा कि आपके कार्य से आपको और जिनके लिए काम कर रहे हैं दोनों को समाधान मिलना चाहिए।

राज्यपाल से भेंट करने वालों में 7 महिलाएं और 32 पुरुष अधिकारी शामिल रहे। इनमें 2 उप जिलाधिकारी, 19 पुलिस उपाधीक्षक, 4 कोषाधिकारी, 5 सहायक आयुक्त उद्योग विभाग, 5 कृषि अधिकारी कृषि विभाग, 3 सहायक आयुक्त एवं सहायक निबंधक सहकारिता व एक सहायक निदेशक स्थानीय निधि लेखा परीक्षा विभाग के शामिल थे। बीती 23 अप्रैल से 20 जुलाई तक आयोजित उत्तर प्रदेश प्रशासन एवं प्रबंधन अकादमी के 52वें आधारभूत प्रशिक्षण कार्यक्रम में ये सभी अधिकारी प्रशिक्षण ले रहे हैं।

कार्यक्रम में महानिदेशक अरविन्द कुमार सिंह देव ने संस्थान का परिचय देते हुए प्रशिक्षण के बारे में बताया। कार्यक्रम का संचालन अकादमी के अपर निदेशक संजय कुमार सिंह यादव ने किया। धन्यवाद ज्ञापन वित्त अधिकारी मनीष शुक्ल ने किया। प्रशिक्षु अधिकारी प्रशान्त कुमार नायक ने राज्यपाल को पुस्तक भेंट की। श्रीमती अनामिका सिंह ने राज्यपाल के प्रमुख सचिव हेमन्त राव को पुस्तक भेंट की। इस अवसर पर राज्यपाल के विशेष सचिव डा. अशोक चन्द्र आदि भी उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Governor said the officers, keep the evidence with you