अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ईद के मौके पर सक्रिय हो गए मिलावटखोर

चांदी के वर्क से लेकर व्यंजन बनाने में इस्तेमाल होने वाले तेल तक में मिलावट। बावजूद इसके एफएसडीए जब तक सक्रिय होता मिलावटखोर अपना काम कर गए। सूत्रों का कहना है कि रमजान-ईद के दौरान खाद्य पदार्थों की बढ़ी मांग का फायदा मिलावट करने वाले उठा रहे हैं।

प्रदेश के पश्चिमी जिलों से बड़े पैमाने पर मिलावटी रिफाइंड तेल, सिंथेटिक डेयरी पदार्थ शहर के बाजारों में खपाए जा चुके हैं। हरदोई और सीतापुर के रास्ते मिलावटी खाद्य पदार्थ राजधानी में लाए गए। मिलावटी तेल के अलावा वनस्पति घी और घटिया किस्म के खाद्य पदार्थ भी पुराने शहर में खपाए गए हैं। वहीं, मुखबिरों से सूचना मिलने के बाद खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन (एफएसडीए) त्योहार से दो दिन पहले तेजी में आया।

सरसों के तेल और डेयरी उत्पादों के 17 नमूने लिए गए

त्योहार को ध्यान में रखते हुए एफएसडीए ने गुरुवार को विशेष चेकिंग अभियान चलाया। खाद्य सुरक्षा अधिकारियों की अलग-अलग टीमें बनाकर देर शाम तक छापेमारी की गई। इस दौरान अलग-अलग दुकानों और प्रतिष्ठानों से 17 नमूने लेकर जांच के लिए प्रयोगशाला भेजे गए हैं। गुरुवार को विशेष तौर पर सरसों के तेल के नमूने हासिल किए गए।

एफएसडीए के मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी सुरेश कुमार मिश्रा ने बताया कि बुद्धेवर के पास शांति डेयरी एंड स्वीट्स से मिक्ड मिल्क, बुद्धेश्वर डेयरी हर्ष नगर से दूध के, गुरुगोविंद सिंह मार्ग स्थित प्रतिष्ठान से सरसों का तेल, हिन्द नगर से सरसों का तेल का नमून लेकर जांच को भेजा गया। इसके अलावा मोहान रोड स्थित जैन ब्रदर्स के यहां से खुले रूप में बिक रहे सरसों के तेल का नमूना लिया गया। मोहान रोड, शिवरी, काकोरी स्थित अलग-अलग प्रतिष्ठानों से भी सरसों के तेल के नमूने लिए गए। इसके अलावा कन्हैया ब्रां सरसों के तेल का विधिक नमूना शिव गोपाल ट्रेडर्स, घुरघुरी का तालाब से लिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:fsda