अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्रांडेड दूध कम्पनी को लाने वाले दूध में मिला यूरिया

ब्रांडेड कम्पनी जाने वाले दूध टैंकरो में मिलाया जाता था यूरिया एफएसडीए ने पहले जिस दूध को दी थी क्लीन चिट, पुलिस की जांच में मिला यूरियामोहनलालगंज। हिन्दुस्तान संवादराजधानी में स्थित एक ब्रांडेड दूध कम्पनी को यूरिया मिला दूध सप्लाई किया जा रहा था। प्रयोगशाला जांच में इस बात का खुलासा हुआ है। जबकि खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग (एफएसडीए) द्वारा लिए गए इसी दूध के नमूने में यूरिया नहीं मिला था। बुधवार को एसपी ग्रामीण ने सेहत के साथ खिलवाड़ करने वाले मिलवाटखोरों की गिरफ्तारी के आदेश दिए हैं। मोहनलालगंज पुलिस ने किया था भंडाफोड़ मोहनलालगंज में एक ब्रांडेड कम्पनी को जाने वाले दूध के टैंकरों की बिना सील तोड़े दूध निकाला जा रहा था। निकाले गए दूध के बदले टैंकर में नमक, चीनी व यूरिया मिले पानी का मिश्रण मिलाया जाता था। मोहनलालगंज पुलिस ने तीन फरवरी को मऊ पुलिया के पास एक गोदाम से हापुड के रहने वाले रसूल अहमद को गिरफ्तार कर गोरखधंधे का खुलासा किया था। मौके पर पुलिस ने 2350 लीटर मिलवटी दूध नष्ट भी कराया था। एफएसडीए और पुलिस ने दूध का नमूना अलग-अलग लिया था। पुलिस ने दूध भरे टैंकर को खाद्य विभाग के अधिकारियों के सुपुर्द कर दिया था। मौके पर मिले रसूल अहमद के साथ हापुड के फरियाद अहमद के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। फिलहाल फरियाद अभी पुलिस की पकड़ से बाहर है।एफएसडीए ने दी क्लीन चिट, पुलिस को दूध मिला यूरियापुलिस की सूचना के बाद मौके पर खाद्य सुरक्षा अधिकारी राजेन्द्र नाथ मिश्रा की अगुवाई में पहुंची टीम ने मौके पर मिले दूध व टैंकर से दूध का नमूना लिया था। रिपोर्ट आने के बाद खाद्य विभाग के अधिकारियों ने दावा किया था कि दूध में यूरिया नहीं मिला था। जबकि पुलिस ने मौके से 27 पैकेट नमक, 10 किलो यूरिया मिलने की बात कही थी।पुलिस ने अलग लिया था सैम्पलएफएसडीए के साथ-साथ पुलिस ने भी मौके पर मिले दूध का नमूना लिया था। पुलिस ने पहले दूध की जांच के लिए सैम्पल विधि विज्ञान प्रयोगशाला भेजा। जहां बताया गया कि दूध की जांच नहीं होती है। इसके बाद पुलिस ने दूध को एफएसडीए लैब भेजा। यहां एक हजार रुपए प्रति सैम्पल जमा कर पुलिस ने जांच करावाई। जिसकी रिपोर्ट बुधवार को मोहनलालगंज पुलिस को मिली। कोतवाली पहुंचे एसपी ग्रामीण सतीश कुमार ने बताया कि पुलिस द्वारा लिए गए दूध के नमूनों की जांच में यूरिया मिलाए जाने की पुष्टि हुई है। उन्होंने कहा कि इस पूरे खेल में पूरा गैंग काम कर रहा है। जिसकी धरपकड़ के आदेश दिए गए हैं। कहां गया एक टैंकर दूधपुलिस ने जब टैंकर से दूध निकाल कर मिलावट किए जाने का भण्डाफोड़ किया था, उस दौरान मौके पर एक ट्रैंकर और भी मिला था। इंस्पेक्टर का कहना है कि उस टैंकर में भरे दूध व उसके चालक को खाद्य विभाग के अधिकारियों के सुपुर्द कर दिया गया था। जब यह टैंकर चालक दूध लेकर कम्पनी में गया तो, वहां उसका दूध नहीं लिया गया। उसे वापस कर दिया गया था। इसके बाद वह टैंकर व उसमें भरा दूध कहां गया, यह कोई नहीं बता पाया। आशंका व्यक्त की जा रही है कि उस मिलावटी दूध को खुले बाजार में खपा दिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:fsda