अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गन्ने की खेती के लिए किराए पर मिलेंगे कृषि उपकरण

प्रमुख संवाददाता-राज्य मुख्यालय

गन्ने की खेती में मशीनीकरण को बढ़ावा देने तथा किसानों की आय दोगुना किए जाने के उद्देश्य से जल्द ही फार्म मशीनरी बैंकों की स्थापना की जाएगा। ये बैंक गन्ना समिति स्तर पर होंगे।

यह जानकारी गन्ना मंत्री सुरेश राणा ने दी। उन्होंने बताया कि प्रदेश की 169 गन्ना समितियों में पंजीकृत सदस्यों में से लगभग 33 लाख किसान सदस्य गन्ने की खेती करते हैं। इनमें से बहुत से किसान ऐसे हैं जिनके पास विशिष्ट कृषि उपकरणों का अभाव है। विशिष्ट कृषि यंत्रों की कीमत अधिक होने एवं छोटे किसानों की क्रय शक्ति कम होने के कारण गन्ने की खेती में उपयोगी इन बड़े कृषि यंत्रों को खरीद पाना उनके लिए सम्भव नहीं हो पाता है। इस समस्या को देखते हुए गन्ना समिति स्तर पर फार्म मशीनरी बैंक स्थापित किए जाने तथा गन्ना किसानों की मांग के अनुसार ‘कस्टमर हायरिंग बेसिस पर गन्ना खेती के लिए विशिष्ट कृषि यंत्र उपलब्ध कराने का निर्णय लिया गया है।

उन्होंने कहा कि तकनीकी रूप से उन्नत इन कृषि यंत्रों के लिए प्रति घंटा किराया भी देय होगा, ताकि यंत्रों की रिपेयर मेंटीनेन्स भी होती रहे। गन्ना समितियां अपने सालाना बजट में प्रतिवर्ष क्षेत्रीय मांग के अनुसार गन्ना खेती में उपयोगी विशिष्ट यंत्रों के मूल्य के अनुसार धनराशि का प्रावधान करेंगी। गन्ना समितियां अपने वार्षिक बजट में कृषि यंत्र मद में उपलब्ध धन के अनुसार ही कृषि यंत्रों की खरीद कर फार्म मशीनरी बैंक को समृद्ध करेंगी। फार्म मशीनरी बैंक से गन्ना किसानों विशेषकर लघु एवं सीमान्त कृषकों को गन्ना खेती की लागत कम करने में सुविधा मिलेगी तथा उनकी आमदनी बढेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:form machinary banks will be opend