DA Image
3 दिसंबर, 2020|12:50|IST

अगली स्टोरी

हाथरस कांड के दोषी अफसरों पर एफआईआर हो: अखिलेश

default image

- हाथरस कांड में जनाक्रोश थम नहीं रहाप्रमुख संवाददाता- राज्य मुख्यालयसमाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि हाथरस कांड में भाजपा सरकार की लीपापोती से जनाक्रोश थम नहीं रहा है। कुछ अधिकारियों को हटा तो जरूर दिया गया, लेकिन उन पर एफआईआर भी दर्ज हो चाहिए, जिससे सच उगलवाया जा सके कि किसके दबाव में उन लोगों ने आतंक फैलाया। रात में परम्परा के विपरीत दलित युवती का शव क्यों जला दिया और पीड़ित परिवार को बंधक बनाकर क्यों रखा?अखिलेश ने शनिवार को जारी एक बयान में कहा कि गांधी की जयंती पर 2 अक्तूबर को हाथरस की बेटी के लिए लखनऊ हजरतगंज स्थित जीपीओ पार्क में गांधी की प्रतिमा पर मौन व्रत रखकर बैठने जा रहे समाजवादी पार्टी के नेताओं व विधायकों को गिरफ्तार किया गया। बर्बरता से लाठीचार्ज कर भाजपा सरकार ने सत्य की आवाज हिंसक तरीके से दबाई है। महिलाओं को गिरफ्तारी से पूर्व सड़क पर गिराकर घसीटा गया, उनके कपड़े फाड़े गए और अपमानित किया गया।उन्होंने कहा है कि महोबा-हाथरस की घटनाओं से लगता है प्रदेश में डीएम-एसपी के नए गैंग को जन्म दे दिया है। अपराधी और पुलिस का भी गठबंधन होने लगा है। हाथरस की दलित बेटी की जिंदगी बर्बाद करने वालों पर उतनी सख्ती नहीं दिखाई गई जितनी पीड़िता के परिवार वालों के साथ हुई। आधी रात को शव दाह की कौन सी जल्दी थी? भाजपा सरकार अगर यह समझती है कि अपने सत्तामद के बल प्रयोग से वह न्याय की आवाज कुचल देगी तो यह उसका बड़ा भ्रम है। जनता को तब संतोष होगा जब माननीय सर्वोच्च न्यायालय के किसी वर्तमान जज से हाथरस कांड की निष्पक्ष जांच होगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:FIRs against officers convicted for Hathras incident Akhilesh