DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रायबरेली में ठेकेदारी को लेकर दो पक्ष भिड़े, फायरिंग, कई घायल

रायबरेली में ठेकेदारी को लेकर दो पक्ष भिड़े, फायरिंग, कई घायल

विवाद

पुलिस ने मौके से बरामद किए तीन क्षतिग्रस्त वाहन

हमले में तीन घायल, दो को सीएचसी ले जाया गया

मौके से मिले आधा दर्जन कारतूस के खोखे और एक मिस कारतूस

रेलकोच(रायबरेली)। हिन्दुस्तान टीम

रेल पहिया कारखाना लालगंज में बुधवार को मटेरियल सप्लाई में वर्चस्व की जंग को लेकर दो पक्षों के मध्य जमकर मारपीट हुई और गोलियां चली। मारपीट व फायरिंग में तीन लोगें को चोटे भी आई, जिनमें दो घायल तो पुलिस के हत्थे चढ़े लेकिन जिसे गोली लगने के चलते घायल होने की आशंका जताई गई उसे लेकर उसके साथी भाग निकले। पुलिस ने फायरिंग करने वालों का पीछा तो किया लेकिन पकड़ने में नाकाम रही।

बुधवार को रेलपहिया निर्माण में लगी जीडीसीएल के आफिस में मौरंग व गिट्टी आदि निर्माण सामग्री की सप्लाई को लेकर जिला पंचायत सदस्य मुंशीगंज वीरेंद्र कुमार यादव व सहजौरा थाना गुरूबख्शगंज निवासी देवेंद्र सिंह उर्फ समी के मध्य कहासुनी हो गई। कुछ ही देर में विवाद इतना बढ़ गया कि दोनों पक्षों के समर्थकों के मध्य मारपीट, फायरिंग और तोड़फोड़ शुरू हो गई। मारपीट और फायरिंग में एक स्कार्पियो संख्या यूपी 33 एक्यू 0072 व स्टार्म कार यूपी 32 एफबी 3339 क्षतिग्रस्त हो गई। पुलिस ने मौके से दोनों क्षतिग्रस्त चार पहिया वाहनों समेत एक अपाचे बाइक यूपी 33 एएफ 9589 को अपने कब्जे में ले लिया है। पुलिस ने मौके से आधा दर्जन खोखा कारतूस समेत एक मिस कारतूस भी बरामद किया है। बताया गया है कि बुधवार की सुबह उक्त दोनों पक्ष अपने-अपने समर्थकों के साथ जीडीसील के आफिस पहुंचे थे। दोनों ही पक्षों के मध्य मौरंग व गिट्टी सप्लाई को लेकर विवाद होने लगा। बात इतनी बढ़ी कि दोनों पक्षों के समर्थकों के मध्य फायरिंग होने लगी। गोलियां चलने की आवाज सुनते ही वहां भगदड़ मच गई। कारखाने में काम करने वाले मजदूरों समेत कर्मचारी व अधिकारी कार्यालयों में ताला लटकाकर वहां से खिसक लिए।

मौके पर पहुंचे नरपतगंज चौकी इंचार्ज लक्ष्मी नारायण द्विवेदी ने मामले की सूचना कोतवाली पुलिस समेत उच्चाधिकारियों को दी। मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल पहुंच गया। एक घायल लालसिंह उर्फ लल्ली पुत्र रामशंकर निवासी दरियापुर थाना भदोखर रायबरेली को लेकर उसके साथी कार से भाग निकले। भागने का प्रयास कर रहे कुछ लोगों को पुलिस ने पकड़ने का प्रयास किया, लेकिन वह कारखाने के बगल से जाने वाली नहर का सहारा लेकर भाग निकलने में सफल रहे, जबकि दूसरे घायलों अरविंद (23) पुत्र रामसनेही निवासी हिमांचलगंज थाना गुरूबख्शगंज व अभयप्रताप सिंह (22) पुत्र दिनेश प्रताप सिंह निवासी सहजौरा को इलाज के लिए सीएचसी लालगंज ले जाया गया है। अरविंद कंपनी का कर्मचारी बताया गया है। सूचना मिलते ही अपर पुलिस अधीक्षक शशिशेखर सिंह व सीओ महराजगंज गोपीनाथ सोनी समेत सर्किल के सभी थानों की पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस वाले जीडीसीएल के अधिकारियों को फोन कर मौके पर बुलाते रहे, लेकिन कोई भी अधिकारी मौके पर आने को तैयार नही हुआ।

सीओ ने गेट पर तैनात सुरक्षा कर्मियों को भी जमकर फटकार लगाई। उनका कहना था कि बिना पहचान किए बाहरी लोगों को इतनी संख्या में कारखाने के अंदर कैसे आने दिया गया। उन्होंने गेट पर रखे इंट्री रजिस्टर को चेक किया तो पता चला कि मारपीट व फायरिंग करने वाले दोनो ही पक्षों से आधा-आधा दर्जन चौपहिया गाड़ियां अंदर आई थी। जिनके नंबरो को नोट कर पुलिस ने विवेचना शुरू कर दी है। अभी तक मामले में किसी भी पक्ष ने पुलिस में शिकायत नही दर्ज कराई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Fearing two sides for the contract in RaeBareli