Exercise should not be stopped even after arthritis - आर्थराइटिस होने के बाद भी व्यायाम नहीं बंद करना चाहिए DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आर्थराइटिस होने के बाद भी व्यायाम नहीं बंद करना चाहिए

default image

लखनऊ। निज संवाददाता जीवन में हमेशा फिट रहने के लिए व्यायाम और खेलकूद बहुत जरूरी है। आर्थराइटिस जैसी बीमारी होने के बाद भी व्यायाम बंद नहीं करना चाहिए। क्योंकि उससे जोड़ों के दर्द के बाद भी आराम मिलता है। आर्थराइटिस से पीड़ित लोगों को डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही व्यायाम करना चाहिए। यह बात शनिवार को आर्थराइटिस फाउंडेशन ऑफ लखनऊ के संस्थापक डॉ. संदीप कपूर और डॉ. संदीप गर्ग ने संयुक्त रूप से कही। डीजीपी मैराथन में दौड़े विश्व आर्थराइटिस दिवस पर शनिवार को राजधानी में कई जागरुकता कार्यक्रम, स्वास्थ्य शिविर लगे। आर्थराइटिस फाउंडेशन की ओर से सुबह मैराथन, साइक्लोथॉन और वॉकाथॉन हुआ। पीएसी बैंड की करतल ध्वनि के साथ इसका उद्घाटन मुख्य अतिथि डीजीपी ओपी सिंह ने करते हुए दौड़ लगाई। इसमें पांच सौ से अधिक लोगों ने हिस्सा लिया। यह मैराथन गोमती नगर के हेल्थ सिटी हॉस्पिटल से शुरू होकर 1090 व गोल्फ चौराहे होते हुए कटाई पुल सोमनाथ द्वार से वापस अस्पताल पहुंची। इस मौके पर हेल्थ सिटी के निदेशक मंडल ने अस्पताल में उत्कृष्ट कार्य के लिए सात कर्मचारियों को सम्मानित किया। भरपूर नींद लेना जरूरी गोमती नगर के रेडियस जॉइंट सर्जरी हॉस्पिटल ने निःशुल्क चिकित्सा शिविर में लोगों को हड्डियों से संबंधित जांच की। लोगों को जागरुक किया। हॉस्पिटल के मुख्य सलाहकार और हड्डी रोग सर्जन डॉ. संजय श्रीवास्तव ने कहा 40 साल या उससे अधिक उम्र में कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं। इसमें जोड़, घुटना और हड्डियों की समस्या आम होती है। कानपुर रोड के अपोलोमेडिक्स के आर्थोपेडिक सर्जन डॉ. संदीप गुप्ता ने कहा आर्थराइटिस न हो इसके लिए सबसे पहले खुद की दिनचर्या में बदलाव की जरूरत है। भावनात्मक रूप से खुद को स्वस्थ रखें। धूम्रपान, शराब का सेवन न करें, तनाव से बचें क्योंकि तनाव नींद और भूख को प्रभावित कर सकता है। मांसपेशियों के तनाव को बढ़ा सकता है। इसलिए अपने मानसिक व शारीरिक स्वास्थ्य और जीवन की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए अच्छी नींद लें। आयुर्वेद में गैर जनपदों से पहुंचे मरीज टूड़ियागंज के राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज की गठिया क्लीनिक में लगे स्वास्थ्य शिविर का उद्घाटन कॉलेज के प्राचार्य डॉ. प्रकाश चंद्र सक्सेना और गठिया क्लीनिक के प्रमुख डॉ. संजीव रस्तोगी ने किया। शिविर में लखनऊ के अलावा बाराबंकी, रायबेरली, लखीमपुर, सीतापुर, हरदोई समेत कई जिलों से करीब ढाई सौ मरीज पहुंचे। इनका पंजीकरण कर खून, शुगर, हीमोग्लोबिन, बीएमडी, गठिया से संबंधित जांचें नि:शुल्क हुईं और दवाएं दी गईं। डॉ. संजीव ने लोगों को खुद और वीडियो के जरिए खानपान, योगा, व्यायाम के तरीके बताकर जागरुक किया। इस शिविर में डॉ. स्वयंप्रभा, डॉ. नीलेंद्र सिंह, डॉ. कृष्ण गोपाल शर्मा, डॉ. वंदना तिवारी, डॉ. शर्मिष्ठा, डॉ. पूनम वर्मा, डॉ. वसीम, डॉ. अशोक विश्वकर्मा, डॉ. मानवी शाक्य, डॉ. सचिन का विशेष योगदान रहा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Exercise should not be stopped even after arthritis