Even in modern India daughters are being killed in the womb - आधुनिक भारत में भी कोख में मारी जा रही बेटियां DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आधुनिक भारत में भी कोख में मारी जा रही बेटियां

default image

- 7वें समाज कार्य कांग्रेस में बोले विशेषज्ञ

लखनऊ। वरिष्ठ संवाददाता

भारत आधुनिकता की दौड़ में शामिल है। लेकिन, दुर्भाग्य है कि अभी भी पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश जैसे जगहों में लडकियों की कोख में मरने के मामले सामने आ रहे हैं। काशी विद्यापीठ वाराणसी के प्रो. आरपी द्विवेदी का। वह शनिवार को लखनऊ विश्वविद्यालय में चल रहे 7वें समाज कार्य कांग्रेस के दूसरे दिन के समारोह में बोल रहे थे। प्रो. आरपी द्विवेदी ने कहा कि जन्म के पूर्व बच्चे की लिंग जॉच और बाल सुरक्षा स्कीम को लेकर अभी भी काफी उदासीनता दिखाई जा रही है।

राधा कलम मुखर्जी सभागार में आयोजित प्लेनरी सत्र में यूनिसेफ उत्तर प्रदेश की मुख्य क्षेत्र अधिकारी रूथ एल लियनों ने कहा कि बाल अधिकारों और सुरक्षा के क्षेत्र में सरकारी और गैर सरकारी संस्थाओं को मिलकर कार्य करना होगा। इसके लिए जरूरी है कि प्रोफेसर से लेकर छात्र-छात्राओं की क्षमताओं को बढ़ाया जाए। आंध्रा विवि विशाखापटनम के पूर्व वीसी प्रो. एसवी सुधाकर ने कहा कि गैर व्यवसायिक सामाजिक कार्यकर्ता होने के बावजूद महात्मा गांधी समाज कार्य के लक्ष्य और समाज में इसकी जरूरत को समझते थे। मुम्बई के टाटा समाज विज्ञान संस्थान के पूर्व निदेशक प्रो. आरआर सिंह ने कहा कि समाज में सामाजिक परिवर्तन पर ध्यान देकर शांति स्थापित की जा सकती है। क्योंकि यह सतत् विकास लक्ष्य का बड़ा तत्व है। क्षमता आधारित संस्थान में फाउंडेशन प्रो. बैकट पुल्ला ब्रिस्वेन ने लोगों के चुनाव और उन्हें समाज कार्य में कैसे उठाया जाय, इस पर चिन्ता जताई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Even in modern India daughters are being killed in the womb