class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निकाय चुनाव-प्रेक्षकों को आयुक्त ने बताए चुनाव डयूटी में उनके कार्यकलाप

विशेष संवाददाता-राज्य मुख्यालयप्रदेश में हो रहे नगरीय निकाय चुनाव के पहले चरण में लगाए गए प्रेक्षकों की बैठक मंगलवार को राज्य निर्वाचन आयोग मुख्यालय में हुई। इस बैठक में राज्य निर्वाचन आयुक्त एस.के.अग्रवाल ने पहले चरण की चुनाव डयूटी में लगे प्रेक्षकों को आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मतदान के दौरान अगर किसी मतदान स्थल पर शांति व्यवस्था भंग हो जाए या किसी प्रकार की दुर्घटना हो जाए तो उसकी सूचना अविलम्ब आयोग को भेजें।उन्होंने कहा कि पहले चरण के सभी प्रेक्षक 19 नवम्बर को शाम पांच बजे तक अपने जिले में पहुंचकर जिला मजिस्ट्रेट और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, पुलिस अधीक्षक के साथ बैठक कर लें। साथ ही संबंधित निर्वाचन क्षेत्र की शांति-व्यवस्था और सुरक्षा प्रबंधों की जानकारी ले लें और अगर किसी सुधार की जरूरत हो जो सुझाव भी दें।प्रेक्षक संबंधित जिला मजिस्ट्रेट से नगरीय निकाय के वार्डों, मतदान केन्द्रों, मतदान स्थलों और मतदान स्थलवार मतदाताओं की संख्या का ब्यौरा प्राप्त कर लें। इसके साथ ही रिटर्निंग अधिकारियों, सहायक रिटर्निंग अधिकारियों की सूची, सेक्टर व जोनल मजिस्ट्रेटों की सूची, संवेदनशील और अति संवेदनशील प्लस मतदान केन्द्रों की सूची जिला मजिस्ट्रेट से हासिल करें। राज्य निर्वाचन आयुक्त ने कहा कि चुनाव डयूटी में लगे प्रेक्ष्रक जिले में पहुंचने के बाद इलेक्शन स्टाफ डेप्लायमेण्ट साफ्टवेयर के जरिये लगाई जाने वाली मतदान डयूटी की जांच जरूर करें। उन्होंने प्रेक्षकों से कहा कि जिले के पुलिस प्रशासन द्वारा चिन्हित अति संवेदनशील (प्लस) मतदान स्थलों की वीडियो रिकार्डिंग/ वेबकास्टिंग के लिए व्यवस्था सुनिश्चित समय से करवा लें। प्रेक्षक जिले में पहुंचने के बाद वेबकास्टिंग इंचार्ज, वेबकास्टिंग संस्था के प्रभारी के साथ बैठक कर यह सुनिश्चत करवा लें कि जिले में पर्याप्त संख्या में टैबलेट पहुंच गए हैं या नहीं।अति संवेदनशील (प्लस)मतदान स्थलों पर बिजली कनेक्शन उपलब्ध हैं और मतदान के बाद टैबलेट जमा करने पर आपरेटर को पारिश्रमिक भुगतान के लिए नकद राशि की व्यवस्था संस्था द्वारा कर ली गई है। यह भी सुनिश्चत कर लें कि जिला स्तरीय कण्ट्रोल रूम मतदान से दो दिन पहले स्थापित हो गया है ताकि मतदान से एक दिन पहले चेकिंग के दौरान कंट्रोलरूम की सहायता से पूरी प्रक्रिया की निगरानी की जा सके। राज्य निर्वाचन आयुक्त ने प्रेक्षकों से कहा कि वह मतदान स्थल पर मतदान के लिए सभी आवश्यक व्यवस्था, मतदान केन्द्र पर समुचित पुलिस बल और शांतिपूर्ण मतदान करवाने के लिए सेक्टर व जोनल मजिस्ट्रेट की तैनाती की व्यवस्था को भी देखें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Election
सहकारी संस्थाओं में पारदर्शिता जरूरीपॉवर-कारपोरेशन ने भी लागू किया ‘ईज आफ डूइंग बिजनेस