edu - बीएसए के आश्वासन के बाद बच्चे पहुंचे स्कूल DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीएसए के आश्वासन के बाद बच्चे पहुंचे स्कूल

default image

प्राथमिक विद्यालय गनियार में शिक्षकों के आपसी विवाद में बच्चे नहीं आ रहे थे स्कूल

मोहनलालगंज। हिन्दुस्तान संवाद

प्राथमिक विद्यालय गनियार में शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई के बाद भी अभिभावकों ने शनिवार को बच्चों को स्कूल नहीं भेजा। अभिभावकों ने आरोप लगाया कि बीएसए ने स्कूल की इंचार्ज शिक्षका पर गलत कार्रवाई की है। यहां तक के गांव वालों को समझाने के लिए खुद बीएसए डॉ अमर कान्त सिंह को वहां जाना पड़ा। बीएसए के आश्वासन के बाद करीब आठ अभिभावकों ने अपने बच्चों को स्कूल भेजा।

प्राथमिक विद्यालय गनियार में शिक्षकों के आपसी विवाद व छात्रों के साथ आए दिन अभद्रता से नाराज होकर पूरे गांव ने बच्चों को विद्यालय भेजना बंद कर दिया था। जांच के बाद बीएसए डॉ अमरकांत सिंह ने स्कूल की इंचार्ज मंजुला श्रीवास्तव व सहायक अध्यापिका स्मिता देव को निलंबित कर दिया। साथ ही स्कूल में तैनात तीनों शिक्षामित्रों का मानदेय रोक दिया। अभिभावकों का कहना हैं कि स्मिता देव जब शौच के लिए जाती थी तो बच्चों से शौचालय में पानी डलवाती थी। अभिभावक जब शिकायत लेकर जाते थे तो उनका वीडियों बनाकर कार्रवाई कराने के लिए डराती थी। शिक्षिका स्मिता देव के साथ इंचार्ज मंजुला श्रीवास्तव पर की गई कार्रवाई गलत है। वहीं, मौके पर पहुंचे बीएसए ने बच्चों के अभिभावको को स्कूल बुलाया। उन्होंने आश्वासन दिया कि पूरे मामले की जांच चल रही है, अगर इंचार्ज शिक्षिका मंजुला श्रीवास्तव पर लगे आरोप गलत साबित हुए तो तुरंत बहाल कर दिया जायेगा। समझाने के बाद केवल आठ अभिभावको ने बच्चों को स्कूल भेजा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:edu