DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › लखनऊ › सदर में 1952 से लगातार हो रही है दुर्गा पूजा
लखनऊ

सदर में 1952 से लगातार हो रही है दुर्गा पूजा

हिन्दुस्तान टीम,लखनऊPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 06:55 PM
सदर में 1952 से लगातार हो रही है दुर्गा पूजा

लखनऊ। मां भवानी के नौ स्वरूपों के पूजन के पर्व नवरात्र पर शहर के प्राचीन दुर्गा पूजा पंडाल के बारे में जानते है। इस क्रम में शहर के सदर दुर्गा पूजा पंडाल के बारे में जानते है।

परिचय

कंटोमेंट पूजा एंड सेवा समिति साल भर सांस्कृतिक, सामाजिक कार्यक्रम करती है। सदर में श्री श्री दुर्गा पूजा के साथ साथ लक्ष्मी पूजा, काली पूजा का भी आयोजन किया जाता है। समिति ने समाज सेवा के क्षेत्र में भी कई अनुकरणीय कार्य किए।

इतिहास

वर्ष 1952 में कंटोमेंट के लोगों ने शुरू की थी। सदर श्री श्री दुर्गा पूजा समिति की स्थापना के बाद लगातार पूजा की जा रही है। समिति के मीडिया सचिव निहार डे ने बताया कि करीब सात दशक से समिति की ओर से विभिन्न आयोजन किए जा रहे हैं। समिति ने दुर्गोत्सव को समस्त कंटोमेंट क्षेत्र में अत्यधिक लोकप्रिय बनाया। 70 वर्षों की इस यात्रा में समिति को शहर के तमाम बुधजीवी सामाजिक हस्तियों का महत्वपूर्ण सहयोग मिला है।

क्षेत्र के लोगों के सहयोग से करते हैं आयोजन

निहार डे ने बताया कि पिछले कुछ वर्षों से हमारी समिति के सभी पदाधिकारी, सदस्य के साथ आर्मी और क्षेत्र के गणमान्य लोगों से आर्थिक सहयोग लेकर दुर्गा पूजा की जा रही है।

आकर्षण का केंद्र

यहां 15 अक्तूबर तक विभिन्न आयोजन होंगे। पंडाल पर बादलों की छाया के अनुरूप सजावट की गई है। जिसमें कोरोना खत्म होने का संदेश दिया जाएगा।

मां की प्रतिमा

कोरोना की वजह से पिछले वर्ष और इस वर्ष समिति द्वारा दुर्गोत्सव का आकार एवं स्वरूप सीमित ने स्वेक्षा से सीमित कर दिया है। करीब पांच फिट की दुर्गा मां की मूर्ति स्थापित होगी। कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए भोग प्रसाद का वितरण वृहद स्तर पर नहीं किया जाएगा।

संबंधित खबरें