ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश लखनऊआलमबाग बस अड्डे के बाहर इंजीनियर को कुचल कर ड्राइवर भाग निकला, वरिष्ठ लिपिक निलंबित

आलमबाग बस अड्डे के बाहर इंजीनियर को कुचल कर ड्राइवर भाग निकला, वरिष्ठ लिपिक निलंबित

गुरुवार सुबह हुई थी घटना, सीसी फुटेज से पता चला कि बस स्टेशन के बाहर

आलमबाग बस अड्डे के बाहर इंजीनियर को कुचल कर ड्राइवर भाग निकला, वरिष्ठ लिपिक निलंबित
हिन्दुस्तान टीम,लखनऊFri, 24 Mar 2023 11:45 PM
ऐप पर पढ़ें

गुरुवार सुबह हुई थी घटना, सीसी फुटेज से पता चला कि बस स्टेशन के बाहर हुआ हादसा

घटना की सूचना देने में लापरवाही बरतने पर लिपिक पर हुई कार्रवाई

लखनऊ। संवादददाता

पटना के रहने वाले एनएचएआई के इंजीनियर अरविन्द कुमार को बस ने आलमबाग बस अड्डे के बाहर गेट पर कुचल दिया था। हादसे के बाद ड्राइवर वहां से फरार हो गया था। सीसी फुटेज से यह बात सामने आयी। गुरुवार सुबह हुई इस घटना को लेकर कुछ लोगों ने परिवारीजनों को बताया था कि यह हादसा बस अड्डे के अंदर हुआ है। पर, सीसी फुटेज देखने के बाद परिवहन विभाग के अफसरों ने कहा कि हादसा बस स्टेशन के बाहर हुआ है। उधर इस घटना के बारे में अफसरों को सूचना न देने पर वरिष्ठ लिपिक गोपीनाथ को निलम्बित कर दिया गया है।

गुरुवार को हुये इस हादसे के बाद अरविन्द कुमार मौर्य को लोकबंधु अस्पताल ले जाया गया था जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई थी। पुलिस ने उनके पास मिले दस्तावेजों से पहचान होने पर परिवारीजनों को सूचना दी थी। अरविन्द कुमार इस समय अलीगढ़ कानपुर मंडल का काम देख रहे थे। वह हरिद्वार में अपने एक रिश्तेदार के यहां तेरहवीं में गये थे। वहां से लौट कर वह कन्नौज में अपनी साइट पर जा रहे थे। चारबाग रेलवे स्टेशन पर उतर कर वह बस पकड़ने के लिये आलमबाग पहुंचे थे तभी यह हादसा हो गया। अरविन्द के बेटे श्रेय मौर्य ने इस मामले में आलमबाग पुलिस को तहरीर दी है।

बस अड्डे पर जांच शुरू हुई

शुक्रवार सुबह यह वायरल हुआ कि यह हादसा बस स्टेशन के अंदर ड्राइवर की लापरवाही से हुआ है। इसके बाद ही रोडवेज क्षेत्रीय प्रबन्धक समेत कई अधिकारी बस टर्मिनल पर पहुंचे। सीसी फुटेज से पता चला कि बुलन्दशहर डिपो की बस (यूपी 14 एफटी 8060) से यह हादसा गेट के बाहर हुआ। घटना के बाद ड्राइवर सतेंद्र और परिचालक महावीर ने एआरएम चारबाग डिपो अमरनाथ को फोन पर इस हादसे की सूचना दी थी। उन्होंने बताया था कि बस गेट के पास धीरे-धीरे चल रही थी तभी एक व्यक्ति बस से टकराकर लहूलुहान हो गया। उन्हें अस्पताल ले जाया गया है।

पटना ले गये शव

श्रेय ने पोस्टमार्टम हाउस पर बताया कि उसे फोन पर सूचना दी गई थी। इसके बाद ही वह रिश्तेदारों के साथ लखनऊ के लिये चल दिया था। अरविन्द की मौत की खबर मिलते ही घर में कोहराम मच गया था। पत्नी चंचल सिन्हा बेसुध हो गई। बेटे श्रेय ने बताया कि वह आईटी कम्पनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर है और उसका छोटा भाई क्षैतिक अभी पढ़ाई कर रहा है। उनका परिवार इस समय गाजियाबाद में रहता है। वह लोग मूल रूप से पटना के रहने वाले हैं। पोस्टमार्टम के बाद परिवारीजन अरविन्द के शव को लेकर पटना चले गये।

वरिष्ठ लिपिक निलंबित

इस घटना की सूचना मिलने पर ही वरिष्ठ अफसरों को न बताने के आरोप में वरिष्ठ लिपिक गोपीनाथ को निलंबित कर दिया गया। क्षेत्रीय प्रबंधक मनोज कुमार ने इसे घोर लापरवाही मानते हुये निलंबन आदेश जारी किया है। शुक्रवार सुबह आलमबाग बस टर्मिनल पहुंचे क्षेत्रीय प्रबंधक ने लापरवाही पर स्टेशन इंचार्ज और कर्मियों को फटकार लगाई थी।

बस टर्मिनल में कुल 35 सीसीटीवी, सिर्फ 25 चालू

बस हादसे के बाद शुक्रवार को पुलिस और स्टेशन प्रबंधक ने बस टर्मिनल पर लगे कुल 35 सीसीटीवी कैमरे खंगाले गए। इनमें से सिर्फ 25 कैमरे ही चालू मिले। कैमरे पर गंदगी जमा होने से घटना की साफ तस्वीर नजर नहीं आ सकी। स्टेशन इंचार्ज ने बताया कि सीसीटीवी का रखरखाब शालीमार कंपनी की ओर से किया जा रहा है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें