DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बारिश में शरीर की प्रतिरोधक क्षमता डाबर से बढ़ाएं

मानसून के दिनों में वातावरण में विषाक्ता बहुत तेजी से बढ़ती है। इसी के साथ शरीर में प्रतिरोधक क्षमता तेजी से घटती है। आमतौर पर मानसून में लोग सर्दी, खासी, एलर्जी, डेंगू, निमोनिया और बुखार जैसी बिमारियों से ग्रस्त होते हैं। जरूरत है इन दिनों में प्रतिरोधक क्षमता और संक्रमण से लड़ने की क्षमताओं को बढ़ाने की। प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए आवंला सबसे अच्छा स्रोत है और इसको आयुर्वेदिक सूत्रों के साथ लेने का तरीका का डाबर च्यवनप्राश। यह बातें शुक्रवार को एक स्थानीय होटल में प्रेसवार्ता के दौरान दिल्ली के सर गंगा राम हॉस्पिटल के वरिष्ठ आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ. परमेश्वर अरोड़ा ने कही।

डॉ. परमेश्वर अरोड़ा ने बताया कि डाबर च्यवनप्राश केवल मानसून में खाने के लिए नहीं बल्कि इसका सेवन पूरे साल भर किया जा सकता है। इससे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता तो बढ़ती है साथ ही रोगाणुओं से लड़ने में भी मदद मिलती है। इसमें गुणकारी जड़ी बूटियों का संतुलित मिश्रण है। इसका सेवन प्रत्येक व्यक्ति को प्रतिदिन करना चाहिए। इस मौके पर डाबर इंडिया लिमिटेड के ग्रुप प्रोडक्ट मैनेजर अक्षय कपूर, अजय उपाध्याय, अनूप गुप्ता और दिनेश कुमार मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Dabar