crime - ओएलएक्स पर स्कूटी बेचने के नाम पर ठगी DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ओएलएक्स पर स्कूटी बेचने के नाम पर ठगी

- जालसाज ने खुद को सैन्य कर्मी बताकर जाल में फंसाया - खाते में मंगवाये साढ़े दस हजार रुपये, मुकदमा दर्ज लखनऊ। वरिष्ठ संवाददाता ओएलएक्स पर स्कूटी बेचने के नाम पर जालसाज ने एक छात्रा व उसके पिता को साढ़े दस हजार रुपये का चूना लगा दिया। आरोपी ने खुद को सैन्य कर्मी बताकर पिता-पुत्री को जाल में फंसाया। लगातार रुपयों की मांग होने पर पीड़ित को शक हुआ तो उसने रुपये लौटाने को कहा। इस पर आरोपी ने पीड़िता का फोन उठाना बंद कर दिया। ठगी का शिकार छात्रा ने चिनहट कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज करायी है।इंस्पेक्टर सचिन कुमार सिंह ने बताया कि मूलत: गाजीपुर जनपद निवासी अपूर्वा सिंह बीबीडी विश्वविद्यालय की छात्रा है। कुछ दिन पहले उसने सेकेंड हैंड स्कूटी खरीदने की सोची। इसके लिए उसने ओएलएक्स पर सर्च किया। सर्च के दौरान उसे एक स्कूटी बिक्री का विज्ञापन दिखा। उसने दिये गये मोबाइल नंबर पर संपर्क किया तो विकास पटेल नाम के शख्स से बात हुई। विकास ने खुद को सैन्यकर्मी बताया और 24 हजार रुपये में स्कूटी बेचने की बात कही। विकास ने अपूर्वा को स्कूटी की फोटो सहित अन्य पेपर व्हाट्स एप पर भेजे। इसके बाद स्कूटी का सौदा 21 हजार रुपये में तय हुआ। विकास ने अपूर्वा से आधी रकम गूगल पे एकाउंट में डालने की बात कही और बाकी रकम गाड़ी मिलने के बाद देने के लिए कहा। विकास की बात पर यकीन करके अपूर्वा ने 10,500 रुपये गूगल पे एकाउंट में ट्रांसफर कर दिये। इसके बाद अगले दिन विकास ने फोन कर अपूर्वा को बताया कि गाड़ी लखनऊ पहुंच चुकी है। उसने आर्मी कूरियर का हवाला देते हुए बची हुई रकम भी ट्रांसफर करने के लिए कही तो अपूर्वा और उसके पिता ने बिना गाड़ी मिले रुपये देने से मना कर दिया। इस पर विकास ने गाड़ी डिलीवरी से इनकार कर दिया। अपूर्वा ने अपने दिए हुए रुपये वापस मांगे तो आरोपी ने उसका मोबाइल नंबर ब्लॉक कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:crime