DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माता-पिता से खफा किशोरी ने लगाई फांसी

- गोमतीनगर में युवक ने लगाई फांसी

लखनऊ। निज संवाददाता

विकासनगर के विनायकपुरम में झोपड़पट्टी में रहने वाली अंशू (17)ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। पुलिस का कहना है कि वह अपने माता-पिता से किसी बात को लेकर नाराज थी। इसी कारण उसने फांसी लगा ली। उधर, गोमतीनगर के मलेशेमऊ में संदीप (22)ने फांसी लगा ली। पुलिस ने दरवाजा तोड़कर शव को नीचे उतारा। पुलिस को दोनों के पास से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला।

विकासनगर के विनायकपुरम सेक्टर 12 स्थित झोपड़पट्टी में रामस्वरूप पत्नी सरोज, बेटी मंजू, अंशू और बेटे अमर के साथ रहते हैं। रामस्वरूप ने बताया कि उनकी बेटी मंजू की शादी थी। लिहाजा, रामस्वरूप ने दुबग्गा स्थित एक मकान से बेटी का विवाह किया। शादी होने के बाद किसी बात पर अंशू खफा हो गई और वहां से झोपड़पट्टी लौट आई। यहां पर उसने झोपड़ी में दुपट्टे से बांस में फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली। घर वाले उसे तलाश करते हुए जब झोपड़ी में पहुंचे तो उसका शव लटका देखा। रामस्वरूप की सूचना पर पुलिस पहुंची और शव को नीचे उतारने के बाद पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। उधर, गोमती नगर के मलेशेमऊ निवासी संतराम के मकान में करीब तीन साल से सीतापुर के अटरिया निवासी साले चंद्रिका प्रसाद परिवार के साथ रहते हैं। उन्होंने बताया कि चंद्रिका और उनकी पत्नी गांव गए थे। घर में उनका बेटा संदीप था। लोगों ने बताया कि सोमवार रात संदीप घर आया और अपने कमरे में चला गया। उसने काफी शराब पी रखी थी। सुबह तक संदीप नहीं उठा। काफी देर तक खटखटाने के बाद भी दरवाजा नहीं खुला। इस पर संतराम ने लोगों की मदद से खिड़की से भीतर झांक कर देखा। उसका शव गमछा और साड़ी से छत के कुण्डे में लटक था। उन लोगों ने पुलिस को सूचना दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:crime