DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विरोधियों को सामने देख भड़क गए थे दोनों पक्ष

- तिलक समारोह में फायरिंग का मामला - चार नामजद आरोपियों की तलाश में सीतापुर और बाराबंकी में पुलिस ने डेरा डालालखनऊ। हिन्दुस्तान संवादजानकीपुरम में तिलक समारोह में हुई फायरिंग व मारपीट के मामले में गुड़म्बा पुलिस ने पीड़ित शुभम की तहरीर पर अभिषेक सिंह उर्फ बाबू, पवन सिंह, रोहित सिंह और शिवम सिंह समेत दो-तीन अज्ञात लोगों के खिलाफ बलवा व जानलेवा हमले समेत गंभीर धराओं में रिपोर्ट दर्ज की है। आरोपियों के गैर जनपद भागने के शक में पुलिस टीम सीतापुर, बाराबंकी और लखीमपुर में उनके संभावित ठिकानों पर छापेमारी कर रही है। जानकीपुरम के आकांक्षा परिसर निवासी शुभम सिंह ने पुलिस को दी तहरीर में कहा कि शुक्रवार रात करीब 9:15 बजे वह छुइयापुरवा के पास स्थित पार्क में अपने मित्र बजरंग राजपूत के तिलक समारोह में गया था। उसके साथ पार्टी में अनूप यादव और शशि राजपूत भी मौजूद थे। तभी अभिषेक सिंह उर्फ बाबू, पवन सिंह उर्फ लकी, रोहित और शिवम सिंह और उनके साथ दो-तीन अज्ञात लोग आ गए। आरोप है कि वह लोग विपक्षियों को सामने देख भड़क गए। शुभम के मुताबिक वह लोग गालियां देने लगे। विरोध करने पर शिवम और रोहित ने जान से मारने के लिए ललकारा तभी अभिषेक और पवन ने अंधाधुंध गोलियां चला दी। गोली शुभम,अनूप और कुलदीप राजपूत को लगी। इस बीच भगदड़ मच गई जिसका फायदा उठाकर आरोपी भाग निकले। पीड़ित शुभम के मुताबिक लोगों से बात करने पर दो आरोपियों की और पुष्टि हुई है। लिहाजा उसने बयान देकर दोनों के नाम एफआईआर में बढ़वाने के लिए पुलिस से अनुरोध किया है।पहले भी कई बार हो चुका विवादइंस्पेक्टर तेज प्रकाश सिंह ने बताया कि दोनों पक्षों में पुरानी रंजिश है। इसके पहले भी यह लोग राजधानी में घटित हुई कई घटनाओं में शामिल रहे हैं। पहले यह लोग एक साथ रहकर काम करते थे। लेकिन, इधर कई सालों से एक दूसरे के कट्टर विरोधी बन चुके हैं। इंस्पेक्टर के मुताबिक जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।क्रॉस रिपोर्ट दर्ज करवाने के लिए होती रही सिफारिशइस मामले में क्रॉस एफआईआर दर्ज करवाने के लिए थाने पर एक वकील गुट काफी देर तक पैरवी करता रहा। लेकिन, मौके पर मौजूद सीओ गाजीपुर अमित कुमार ने रिपोर्ट दर्ज करने से मना कर दिया। क्रॉस एफआईआर के लिए दी गई तहरीर में छुइयापूरवा निवासी दिनेश राजपूत ने कहा है उसके भाई बजरंग राजपूत के तिलक में उसकी मौसी का बेटा कुलदीप आया हुआ था। तभी पानी देने को लेकर उससे शशि वर्मा, दीपक यादव उर्फ बच्चू से विवाद हो गया। जिसके बाद दोनों ने फोन कर शुभम और राम प्रकाश समेत कई अज्ञात साथियों को बुलाकर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। जिससे कुलदीप को गोली लग गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:crime