अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैशियर की हत्या में नामजद आरोपितों से पूछताछ

तैयार की 70 लोगों की लिस्ट करेगी सवाल

परिवार ने उन्नाव में कैशियर के शव का किया अंतिम संस्कार

लखनऊ। निज संवाददाता

पीजीआई के बरौना गांव में यूको बैंक कैशियर राहुल सिंह की हत्या में नामजद किए गए आरोपितों से पुलिस ने पूछताछ की है। साथ ही कैशियर के मोबाइल की कॉल रिकार्ड के आधार पर 70 लोगों से भी सवाल जवाब किए गए। छानबीन में दो जगह के सीसी फुटेज भी मिले हैं। जिनके सहारे पुलिस कातिलों तक पहुंचने का प्रयास कर रही है।

सीओ कैंट तनु उपाध्याय ने बताया कि राहुल के पिता अजय पाल ने तेज बहादुर, लोकेन्द्र प्रताप सिंह, मानवेन्द्र प्रताप सिंह, पप्पू सिंह व शिव शंकर शर्मा पर हत्या का शक जताया था। उन्होंने बताया कि शनिवार को पोस्मार्टम के बाद परिवार वाले राहुल का शव लेकर उन्नाव चले गए। जिस वजह से कैशियर के पिता उनके द्वारा लगाए गए आरोपों पर बात नहीं हो सकी। इस बीच पीजीआई पुलिस ने राहुल सिंह के पास से मिले दो मोबाइल फोनों की कॉल डिटेल खंगाली है। खासकर शुक्रवार को जिन नम्बरों पर राहुल ने बात की थी। उन नम्बरों पर कॉल कर पूछताछ की जा रही है।

बैंक से नहीं मिल सका फुटेज

इंस्पेक्टर पीजीआई रवीन्द्र नाथ राय ने बताया कि गोसाईंगंज स्थित बैंक से बरौना गांव के रास्ते में कुछ जगह पर सीसी कैमरे लगे हैं। उनके मुताबिक एक ईट भट्ठे समेत दो जगह से फुटेज मिली है। जिसे देखा जा रहा है। उन्होंने बताया कि शनिवार को एक टीम यूको बैंक गई थी। इंस्पेक्टर के मुताबिक बैंक मैनेजर ने कैमरों का बैकअप लिए जाने के कारण फुटेज देने में असमर्थता जताई। उन्होंने बताया कि सोमवार को फुटेज मिल सकती है।

जेल जाने से पनपी थी रंजिश

अजय पाल सिंह व तेज बहादुर सिंह दूर के रिश्तेदार हैं। जानकारी के अनुसार कई साल पहले अजय पाल एससी-एसटी के एक मामले में जेल गए थे। उन्हें शक था कि विपक्षियों से मिल कर तेज बहादुर ने साजिश रची थी। इसी बात को लेकर दोनों परिवार में रंजिश थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:crime