अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रेमी-प्रेमिका पहुंचे कोतवाली

- राजाखेड़ा गांव की घटना - दो दिन पहले घर से शौच के लिए निकली किशोरी हो गई थी लापता - खेत में मिली थी चप्पल व शॉल, घरवालों ने युवक पर दर्ज कराया था केस - गुरुवार को प्रेमी संग कोतवाली पहुंची किशोरी ने बताया.. मर्जी से भागी थी मोहनलालगंज। हिन्दुस्तान संवादमोहनलालगंज के राजाखेड़ा गांव से गायब हुई किशोरी का अपहरण नहीं हुआ था बल्कि वह अपनी मर्जी से प्रेमी के साथ भागी थी। वह दोनों दो दिनों तक भूखे-प्यासे गांव के किनारे ही खेतों में छिपे रहे। गांव में पुलिस की सक्रयिता देख गुरुवार को दोनों कोतवाली पहुंचे। जहां किशोरी ने खुलासा किया कि वह खुद ही अपने प्रेमी के साथ गई थी। पुलिस ने किशोरी को मेडिकल के लिए भेजा है।राजाखेड़ा गांव में रहने वाले किशोरी मंगलवार को घर से शौच के लिए निकली थी जिसके बाद वह लापता हो गई थी। परिजनों ने जब तलाश शुरू की तो उसका शॉल व चप्पल घर से थोड़ी दूरी पर पड़े मिले थे। किशोरी के परिजनों को मौके पर एक युवक का मोबाइल फोन भी पड़ा हुआ मिला था। इस पर किशोरी के परिजनों ने उस युवक के खिलाफ अपहरण की धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया था। भूखे-प्यासे खेतों में छिपे रहेगुरुवार को प्रेमी-प्रेमिका मोहनलालगंज कोतवाली में इंस्पेक्टर के पास पहुंचे और घटना का सच बयां किया। उन्होंने बताया कि वह दोनों अपनी मर्जी से गये थे। परिजन जब तलाश रहे थे तो दोनों डर के मारे गांव के किनारे एक खेत मे रखे पुआल के छप्पर के नीचे छिपे रहे। दूसरे दिन खेतों में छिपे रहे। डर के मारे वह दोनों कहीं बाहर नहीं गए बल्कि भूखे प्यासे खेतों में ही छिपे रहे। गुरुवार सुबह कुछ लोगों से सुना की किशोरी के परिजनों ने पुलिस में शिकायत कर दी है जिसके बाद दोनों कोतवाली पहुंच गये।पुलिस ने खिलाया खाना इंस्पेक्टर धीरेन्द्र प्रताप कुशवाहा ने बताया कि दो दिन तक भूखा-प्यासा रहने से दोनों बदहवास हालत में थे। पुलिस ने उन्हें खाना खिलाया और उनके घरवालों को मामले की जानकारी दी। मेडिकल के लिए किशोरी को भेजाइंस्पेक्टर धीरेन्द्र प्रताप कुशवाहा ने बताया कि किशोरी का मेडिकल करवाया जा रहा है। परिजनों ने जो प्रमाण पत्र दिए है उसके मुताबिक लड़की नाबालिग है। मामले की जांच की जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:crime