DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजधानी के अधिवक्ता रहे न्यायिक कार्य से विरत

default image

लखनऊ। विधि संवाददाता

बुधवार को राजधानी के अधिवक्ता न्यायिक कार्य से विरत रहे। अधिवक्ताओं के न्यायिक कार्य से बहिष्कार के कारण हाईकोर्ट समेत अधीनस्थ अदालतों में भी न्यायिक कामकाज नहीं हुआ। उत्तर प्रदेश शिक्षा सेवा अधिकरण को लखनऊ के बजाय इलाहाबाद में स्थापित करने की खबरों को लेकर हाईकोर्ट के लखनऊ बेंच के अधिवक्ताओं में नाराजगी है। इसे लेकर हाईकोर्ट की अवध बार एसोसिएशन ने बुधवार को न्यायिक कार्य से बहिष्कार किया।

वहीं स्थानीय वकील शेखर यादुवेंद्र व उनके परिजनों के साथ सीओ गाजीपुर व एसओ इंदिरा नगर द्वारा अकारण अभद्रता करने के विरोध में राजधानी की अधीनस्थ अदालतों के वकीलों ने भी बुधवार को न्यायिक कार्यों का बहिष्कार किया। वकीलों की मांग है कि दोनों पुलिस अधिकारियों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जाए। चेतावनी भी दी गई है कि यदि कार्यवाही नहीं होती है तो पुलिस प्रशासन के विरुद्ध आंदोलन होगा। सेंट्रल बार एसोसिएशन ने अपने इस प्रस्ताव की प्रति एसएसपी के साथ ही मुख्यमंत्री व डीजीपी को भी भेजा है।

आरोपी की तलाश में छापेमारी

इंदिरानगर के सेक्टर-12 में कार पार्किंग के विवाद में हुई फायरिंग के मामले में पुलिस अभी तक दूसरे आरोपी अतुल यादुवेंद्र को गिरफ्तार नहीं कर सकी है। इंस्पेक्टर संतोष कुशवाहा का कहना है कि उसकी तलाश में दबिश दी जा रही है। गौरतलब है कि सोमवार रात अधिवक्ता शेखर यादुवेंद्र व उनके भाई अतुल का पड़ोसी अभिषेक श्रीवास्तव से विवाद हो गया था। आरोप है कि मारपीट के दौरान अतुल ने फायरिंग कर दी थी जिसमें अभिषेक के नौकर अजय गुप्ता को गोली लग गई थी। पुलिस ने अजय को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया था जहां उसका इलाज चल रहा है। पुलिस ने मंगलवार सुबह घटना की रिपोर्ट दर्ज करके वकील शेखर यादुवेंद्र को गिरफ्तार कर लिया था जबकि अतुल अभी भी फरार है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:court