अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूपी की 30 लोकसभा सीटों पर कांग्रेस की नजर 

प्रदेश की करीब ढाई दर्जन लोकसभा सीटों पर कांग्रेस की खास नजर है। गठबन्धन की प्रतीक्षा किए बगैर पार्टी ने इन सीटों पर चुनाव लड़ने वाले नेताओं को तैयारी करने के लिए कह दिया है। यह लोकसभा सीट वे हैं जिन पर पार्टी को नतीजे मिलने की पूरी उम्मीद है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में बीते दिनों हुई पहली केन्द्रीय कार्यसमिति की बैठक में भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ विपक्षी दलों के वृहद गठबन्धन पर सैद्धान्तिक मोहर लग चुकी है। सियासी हलकों में चर्चा है कि वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में सपा, बसपा और राष्ट्रीय लोकदल के गठबन्धन में कांग्रेस भी शामिल रहेगी। लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ प्रदेशों में विधानसभा चुनाव है। तीनों ही प्रदेशों में भाजपा की सरकार हैं। ऐसे में, यूपी से पहले इन प्रदेशों में विपक्षी दलों के गठबन्धन की परीक्षा है। निगाहें इस पर हैं कि इन प्रदेशों में कांग्रेस बसपा या किसी और राजनीतिक दल से गठबन्धन करने में सफल रहती है या नहीं। यूपी की बारी इसके बाद आएगी।

पार्टी सूत्रों के अनुसार गठबन्धन की प्रतीक्षा में हाथ पर हाथ धरे बैठे रहने के बजाये कांग्रेस ने जिन करीब ढाई दर्जन ऐसी सीटों को चिन्हित कर लिया इनमें अधिकांश लोकसभा सीटें पार्टी के दिग्गज नेताओं से जुड़ी रही हैं। कई-कई बार सांसद रहे दिग्गजों की सीट हैं। पडरौना, कानपुर, बाराबंकी, धौरहरा, फैजाबाद समेत ढाई दर्जन सीटों पर चुनावी नतीजे पक्ष में करने के लिए पार्टी ने सारा ध्यान के्द्रिरत कर दिया है। इसी के साथ पार्टी नेतृत्व ने नेताओं से गठबन्धन को लेकर किसी तरह की बयानबाजी से दूर रहने की भी हिदायत दी है। पार्टी का मानना है कि अनर्गल बयानबाजी के कारण भाजपा को हराने के लिए विपक्षी दलों के गठबन्धन का बड़ा लक्ष्य पीछे रह जाएगा। पार्टी नेताओं को साफ कर दिया गया है कि गठबन्धन पर दूसरे दल के नेताओं के भड़काने वाले बयानों पर भी कतई प्रतिक्रया न दें।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Congress eyes 30 Lok Sabha seats in UP