DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अयोध्या मसले का फैसला आने में 24 घंटे भी नहीं लगने चाहिए थे: योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने विधानसभा में कहा कि अयोध्या मसले (Ayodhya Dispute) का फैसला आने में 24 घंटे भी नहीं लगने चाहिए थे। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट को जनआस्था का सम्मान करना ही चाहिए। मुख्यमंत्री ने यह बात सोमवार को राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव की चर्चा का जवाब देते हुए कही। इसी के साथ राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित हो गया।

संपूर्ण विपक्ष की गैर मौजूदगी में बिना किसी टोका-टोकी के मुख्यमंत्री ने कहा कि हाईकोर्ट की तीन सदस्यीय विशेष पीठ ने यह फैसला कर दिया था कि जहां राम लाल विद्यमान हैं, वहीं राम जन्मभूमि है तो राम जन्मभूमि का विवाद तो उसी दिन खत्म हो गया था। बंटवारे का विवाद नहीं था, राम जन्मभूमि का विवाद था, जो हल हो चुका है। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट को जनआस्था का सम्मान करते हुए इसका फैसला आने में 24 से 25 वां घंटा नहीं लगना चाहिए था।

लाखों पेज छह महीने में करा दिए थे अनुवाद
जब अदालत ने हमसे पूछा था कि आप अयोध्या से संबंधित दस्तावेजों का कितने दिन में अनुवाद करा देंगे, हमने कहा जितने दिन में कहेंगे, उतने दिन में करा देंगे। हमने एक लाख पेजों का अनुवाद मात्र छह माह में करा दिया था। श्री योगी ने कहा कि पूरे देश-दुनियां में अयोध्या को भगवान राम की जन्मभूमि के रूप में जाना जाता है, किसी विदेशी आक्रांता के नाम से नहीं। अयोध्या, मथुरा और काशी हमारे प्रदेश में हैं और ये तीनों ही आस्था की पहचान हैं।

लोहिया के चेले नहीं समझते भगवान राम को
डा. लोहिया ने कहा था कि राम, कृष्ण और शिव तीनों हमारे देश के आदि राष्ट्र पुरुष हैं। ये तीनों पूरे देश को जोड़ने का काम करते हैं। पहले आर्याव्रत देश था। आर्याव्रत की सीमा को लांघकर संपू्र्ण देश में भगवान राम ने ही आध्यात्मिक, सांस्कृतिक और राजनैतिक संदेश फैलाया था। डा. लोहिया भगवान राम को समझते थे, लेकिन उनके चेले (समाजवादी नेता) नहीं समझते। समझने के लिए बुद्धि चाहिए। उनको बुद्धि पर विश्वास नही है, लेकिन बाहुबल के आधार पर सब हड़पना चाहते हैं।

आतंकियों के मुकदमे वापस लेने वाले हमसे पूछते हैं मंदिर क्यों नहीं बन रहा
मुख्यमंत्री ने सपा पर हमला करते हुए कहा कि वर्ष 2005 में अयोध्या पर हमला करने वाले आतंकवादियों के मुकदमे वापस करने का सपा सरकार ने कुत्सित प्रयास किया। ऐसे लोग हमसे पूछते हैं कि राम मंदिर क्यों नहीं बन रहा है? हम अपना काम कर रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:CM Yogi said that the decision of the Ayodhya issue should not have taken even 24 hours