DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिविल अस्पताल की ओपीडी में फरवरी से मिलेगा बेहतर इलाज

- सिविल अस्पताल की ओपीडी में चल रहा है जीर्णोद्धार कार्य - ओपीडी में डॉक्टरों को तलाश नहीं पा रहे मरीज और तीमारदार लखनऊ। निज संवाददाता सिविल अस्पताल की ओपीडी में निर्माण कार्य जनवरी के अंतिम सप्ताह तक समाप्त होने की उम्मीद है। सिविल अस्पताल में अभी जीर्णोद्धार चल रहा है। इस वजह से ज्यादातर ओपीडी बंद है। एक ओपीडी में दो-दो विधा के डॉक्टर बैठकर मरीजों का इलाज कर रहे हैं। उम्मीद जताई जा रही है कि फरवरी प्रथम सप्ताह से इन ओपीडी में निर्माण कार्य पूरा हो जाएगा और मरीज देखे जाएंगे। 20 से दो नंबर ओपीडी प्रभावित सिविल अस्पताल में रोजाना पांच हजार से अधिक मरीज ओपीडी में डॉक्टर से इलाज कराने आते हैं। इस समय ओपीडी का जीर्णोद्धार चल रहा है। ओपीडी नंबर 20 से लेकर ओपीडी दो तक कमरों में टूट-फूट हो चुकी है। प्लास्टर व खिड़की, दरवाजे का काम चल रहा है। बिजली आपूर्ति के लिए काम चल रहा है। ओपीडी 20 में बर्न व प्लास्टिक सर्जरी के डॉ. प्रदीप तिवारी व अन्य मरीजों को देखते थे, जो कि इस समय दूसरी ओपीडी में बैठकर मरीजों का इलाज कर रहे हैं। वहीं, कमरा नंबर 18 व 19 में बैठने वाले हड्डी के डॉक्टर इस समय मरीजों को प्लास्टर रूम में देख रहे हैं। दंत रोग, जनरल फिजिशियन, इंजेक्शन कक्ष में टूट-फूट के बीच मरीज देखे जा रहे हैं। मरीजों को हो रही परेशानी अस्पताल में अभी जीर्णोद्धार कार्य की वजह से मरीजों को धूल-धक्कड़ के बीच ओपीडी में इलाज कराना पड़ रहा है। जगह-जगह मलबा पड़ा होने, धूल से मरीजों को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है। ओपीडी में मरीज इलाज के लिए डॉक्टरों को नहीं तलाश पा रहे हैं। क्योंकि डॉक्टर तय ओपीडी कमरा नंबर में नहीं बैठ पा रहे हैं। ऐसे में मरीज और तीमारदार इलाज के लिए इधर-उधर भटक रहे हैं। वर्जन ओपीडी में जीर्णोद्धार कार्य चल रहा है। शासन के निर्देश पर यह कार्य हो रहा है। ओपीडी की मरम्मत का कार्य जनवरी के अंतिम सप्ताह में समाप्त करने का निर्देश ठेकेदार को दिया गया है। उम्मीद है कि फरवरी में ओपीडी के नवनिर्मित कमरों में पूर्व की तरह ही मरीजों को इलाज दिया जाने लगेगा। डॉ. हिम्मत सिंह दानू, निदेशक, सिविल अस्पताल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:civil