DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  लखनऊ  ›  520 परिषदीय स्कूलों में बच्चों को पीने के लिए मिलेगा शुद्ध पानी
लखनऊ

520 परिषदीय स्कूलों में बच्चों को पीने के लिए मिलेगा शुद्ध पानी

हिन्दुस्तान टीम,लखनऊPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 06:10 PM
520 परिषदीय स्कूलों में बच्चों को पीने के लिए मिलेगा शुद्ध पानी

लखनऊ। प्रमुख संवाददाता

राजधानी के 520 परिषदीय प्राइमरी तथा उच्च प्राइमरी स्कूलों में सबमर्सिबल पंप लगाने का काम शुरू हो गया है। शासन ने इसकी जिम्मेदारी यूपीपीसीएल को दी है। कुछ स्कूलों में छुट्टियों में इसे लगा भी दिया गया है जबकि कुछ में काम चल रहा है। इसके लगने से जहां स्कूलों में बच्चों को पीने के लिए शुद्ध पानी मिलेगा वहीं उन्हें शौचालय में भी पानी ले जाने से मुक्ति मिलेगी।

मंडलीय सहायक बेसिक शिक्षा निदेशक पीएन सिंह ने सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को सबमर्सिबल पंप के सत्यापन का निर्देश दिया है। लखनऊ में करीब 1650 परिषदीय स्कूल हैं। इनमें से 50% स्कूलों में अभी हैंड पंप से ही बच्चे पानी पीते हैं। शौचालय में पानी का इंतजाम नहीं रहता है। हैंडपंप से पानी ले जाना पड़ता है। शासन ने लखनऊ सहित प्रदेश के सभी जिलों के स्कूलों में सबमर्सिबल पंप लगाने का निर्देश जारी किया था। इसके साथ साथ पानी की टंकी तथा मल्टीपल हैंडवाशिंग सिस्टम भी लगाने के निर्देश हुए थे।

पहले चरण में लखनऊ के लिए 520 स्कूलों का चयन किया गया है। यूपीपीसीएल ने इसका काम शुरू करा दिया था और कुछ जगह काम पूरा भी हो गया है। लेकिन कुछ स्कूलों में शिकायतें आ रही हैं। दूषित पानी आ रहा है। जबकि कुछ स्थानों पर अभी यूपीपीसीएल ने काम ही नहीं शुरू कराया है। एल सप्ताह पहले मंडलीय सहायक बेसिक शिक्षा निदेशक पीएन सिंह ने इस मामले की समीक्षा भी की थी। जिसमें से तमाम में शिकायतें मिली थी। उन्होंने सभी शिक्षा अधिकारियों से इसका सत्यापन का निर्देश दिया है।

----------------

आने वाले दिनों सभी स्कूलों में लगेगा सबमर्सिबल पंप

राजधानी के सभी प्राइमरी तथा अपर प्राइमरी स्कूलों में सबमर्सिबल पंप लगेंगे। शासन से इसके निर्देश जारी हो चुके हैं। पहले चरण में ही 520 में इसे लगाया जा रहा है। दूसरे चरण में अन्य विद्यालयों को भी लिया जाएगा।

----------

स्कूलों में पंप लगाने का काम चल रहा है। इसमें से कुछ में शिकायतें मिली हैं। इनके सत्यापन के लिए खंड शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं। जहां दूषित पानी आ रहा है या अधूरा काम है। रिपोर्ट आने पर उसके बारे में आला अधिकारियों को जानकारी दी जाएगी।

पीएन सिंह, मंडलीय सहायक बेसिक शिक्षा निदेशक

संबंधित खबरें