अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लड़की के भेष में मंगवाया जा रहा था लड़कों से भीख

- चाइल्ड लाइन की टीम ने महिलाओं समेत 19 लोग पकड़े- महिला एसओ ने सीडब्ल्यूसी सदस्य से की अभद्रता, सदस्य ने लगाई फटकार लखनऊ। निज संवाददाता चाइल्ड लाइन की टीम ने भीख मांगने वाले गिरोह को शनिवार पकड़ा है। इस दौरान यह भी सामने आया कि छोटे लड़कों को लड़की का भेष बनाकर भीख मांगने के लिए भेजा जाता था। इसमें टीम ने हाईकोर्ट, इन्दिरागांधी प्रतिष्ठान और पॉलीटेक्निक चौराहे से भीख मांगने वाले 15 बच्चों और दो महिलाओं को पकड़ा है। इन महिलाओं के पास दो दुधमुंहे भी हैं। सीडब्ल्यूसी के निर्देश पर सभी बच्चों को अलग-अलग बालगृह भेजा जाएगा। दोनों महिलाओं को पुलिस के सुपुर्द करने के निर्देश दिए हैं। इनका सरगना बब्बन फरार है। इस टीम ने किया रेस्क्यू चाइल्ड लाइन की टीम ने सीडब्ल्यूसी के निर्देश पर शनिवार को बड़ा रेस्क्यू किया है। टीम ने गोमती नगर हाईकोर्ट चौराहा व ट्रांसगोमती के प्रमुख इलाके में भीख मांगने वाले बच्चों और दो महिला मेम व रजिया को दो दुधमुंहों के साथ पकड़ा है। साथ ही 14 वर्ष से कम उम्र तक के 15 बच्चों को पकड़ा है। इनमें लड़के-लड़की दोनों शामिल हैं। रेस्क्यू में चाइल्ड लाइन, डिस्ट्रिक्ट चाइल्ड प्रोटेक्शन यूनिट, प्रथम संस्था, बचपन बचाओ आंदोलन, एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट, स्पेशन जुवेनाइल पुलिस यूनिट के सदस्य रहे। जिसमें आस्मा, अजीत, जितेंद्र, अमरेंद्र, अनीता त्रिपाठी, अमर सिंह, अरुण गुप्ता, रविशंकर आदि मौजूद रहे। भीख मांगने की दी जाती है ट्रेनिंग बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) की सदस्य संगीता शर्मा और विनय श्रीवास्तव ने बताया कि ये बच्चे कभी स्कूल नहीं गए। पढ़-लिख नहीं सकते। इनकी उम्र भी यही कोई 10 वर्ष से 14 वर्ष के बीच है। लेकिन मानवीय संवेदनाओं का कैसे फायदा उठाया जाता है। भीख मांगने के क्या तरीके हैं। इसके बारे में उन्हें पूरी 'क्लास' लगाकर ट्रेनिंग दी जाती है। यही वजह है कि दो लड़कों को लड़की के भेष में भीख मंगवाया जा रहा था। पकड़ी गई महिलाओं और बच्चों ने सीडब्ल्यूसी के सामने कबूला कि लड़कियों के प्रति लोगों की खासी संवेदना होती है, लोग उन्हें भीख में ज्यादा रुपए देते हैं। एसओ को लगाई फटकार सीडब्ल्यूसी की सदस्य संगीता ने महिला थाने की एसओ को कॉल करके प्राग नारायण रोड स्थित राजकीय बालगृह शिशु में पुलिस टीम भेजने को कहा। उन्होंने एसओ को पूरा मामला भी बताया। श्रीमती संगीता के मुताबिक महिला एसओ ने मोबाइल पर अभद्र लहजे से बात करते हुए आरोपी महिलाओं को आशा ज्योति केंद्र भेजने और मौके पर पुलिस न पहुंच पाने की बात कही। इस पर सदस्य ने महिला एसओ को फटकार लगाते हुए तुरंत ही महिला पुलिस भेजने और बच्चों से भीख मंगाने वाली दोनों महिलाओं को जेल भेजने के निर्देश दिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:childline