cant - कैंट विस सीट पर टिकी कई की निगाहें DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैंट विस सीट पर टिकी कई की निगाहें

सबसे ज्यादा भाजपा में दावेदार, आकाओं की परिक्रमा शुरू

लखनऊ। प्रमुख संवाददाता

डा. रीता बहुगुणा जोशी के इलाहाबाद से सांसद चुने जाने के बाद खाली हुई कैंट विधानसभा सीट पर कई दिग्गजों की निगाहें टिक गई है। चाहे भाजपा हो या कांग्रेस। इस सीट से विधानसभा तक पहुंचने के लिए दावेदारी पेश होने लगी है। आकाओं की परिक्रमा भी शुरू हो गई है।

लोकसभा चुनाव का परिणाम के अभी चार दिन ही बीते हैं। उपचुनाव की तारीख का अभी दूर तक पता नहीं है लेकिन कैंट विधानसभा क्षेत्र से दावेदारी आने शुरू हो गई है। सबसे ज्यादा दावेदारी भाजपा से है। पिछली बार ही कई दिग्गजों ने दावेदारी पेश कर विधानसभा पहुंचने की इच्छा जाहिर की थी, लेकिन कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुईं डॉ. रीता बहुगुणा जोशी का नाम तय होते ही उनके चेहरे मायूस हो गए थे। अब सीट खाली हुई है तो फिर आस जग गई है। राजनाथ सिंह के दोबारा सांसद चुने जाने यह भी तय है कि जिसके नाम पर उनकी मोहर लगेगी उसी को मौका मिलेगा। लिहाजा उनकी परिक्रमा ज्यादा हो रही है। कोई सीधे उनतक पहुंचने की जुगत में है तो कोई करीबियों के माध्यम से।

भाजपा में कई दावेदार

इस बार लोकसभा चुनाव में सक्रिय भागीदारी निभाने वाले भाजपा महानगर के वरिष्ठ पदाधिकारी की उपचुनाव में किस्मत आजमाने की प्रबल इच्छा है। वह गृहमंत्री के काफी करीबी भी माने जा रहे हैं। चुनाव में वह प्रमुख रणनीतिकारों में से एक रहे। उधर नगर निगम में कई बार से पार्षद चुने जा रहे एक वरिष्ठ पार्षद ने अपने नाम की चर्चा शुरू करा दी है। उन्होंने चुनाव में बहुत मेहनत भी की है। राजनाथ सिंह व उनके करीबियों में उनका बहुत सम्मान भी है। वहीं दूसरी ओर गैर जिले से विधायक व कैबिनेट मंत्री के करीबी भी टिकट की आस लगाए बैठे हैं। कैबिनेट मंत्री के राजनाथ सिंह से बहुत ही नजदीकी रिश्ते भी है। दूसरी ओर छावनी परिषद के एक पार्षद भी अपने नाम को आगे करवाने के लिए हर संभव कोशिश में जुटे हैं। छावनी क्षेत्र में राजनाथ सिंह के चुनाव प्रचार में उन्होने बहुत ही सक्रिय भूमिका निभाई थी। इसके अलावा पूर्व विधायक के नाम की भी चर्चा हो रही है। वह भी अपने समर्थकों के माध्यम से मजबूत दावेदारी पेश करने में जुट गए हैं।

विपक्ष भी सक्रिय

विपक्ष भी इस मामले में पीछे नहीं है। कांग्रेस के एक वरिष्ठ पार्षद ने ताल ठोकने का पूरा मन बना लिया है। उनका नगर निगम में बहुत सम्मान है। कांग्रेस से कोई बड़ा चेहरा भी सामने नहीं है। लिहाजा वह अपनी दावेदारी प्रबल मान रहे हैं। उधर सपा से अभी किसी की प्रबल दावेदारी सामने नहीं आयी है। लेकिन इस पार्टी से भी कई दिग्गज किस्मत आजमाने के लिए तैयार बैठे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:cant