अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रायबरेली के एनटीपीसी में केबिल फटा, एक मजदूर घायल, प्रबंधन पर आरोप लगा मजदूरों ने किया हंगामा

रायबरेली के एनटीपीसी में केबिल फटा, एक मजदूर घायल

हड़कंप

देर शाम हुई घटना, केबिल फटते ही मची भगदड़

काफी देर तक तड़पता रहा मजदूर, एनटीपीसी अस्पताल में कराया गया भर्ती

घटना छिपने में जुटा एनटीपीसी प्रशासन, थाने को भी नहीं दी सूचना

फोटो 35, कैप्शन- बुधवार को एनटीपीसी ऊंचाहार में अस्पताल में भर्ती घायल

कई दर्जन मजदूरों व अधिकारियों की जान लेने के बाद भी एनटीपीसी प्रबंधन ने सीख नहीं ली। प्रबंधन की लापरवाही के चलते एनटीपीसी की यूनिट नंबर छह में फिर विस्फोट हुआ। यूनिट में केबिल फटने से काम कर रहा एक मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गया। विस्फोट होते ही वहां अफरा-तफरी मच गई। घायल मजदूर को छोड़कर उसके साथी भी दूर जा खड़े हुए।

प्रबंधन ने भी घायल का इलाज कराने के बजाय मजदूरों को शांत कराने में जुटा रहा। काफी देर बाद पहुंची एनटीपीसी अस्पताल की एम्बुलेंस से घायल मजदूर को अस्पताल में भर्ती कराया गया। प्रबंधन की मनमानी से घायल के साथी मजदूरों ने हंगामा शुरू कर दिया। किसी तरह प्रबंधन ने उन्हें शांत कराकर मामले को छिपाने का प्रयास किया। यही नहीं घटना की सूचना भी प्रबंधन ने पुलिस को नहीं दी।

मंगलवार की शाम को एनटीपीसी की दुर्घटना ग्रस्त यूनिट नंबर 6 के बूथ एरिया में ट्रांसफार्मर के पास मंगलवार की शाम केबिल अचानक फट गयी। जिससे वहां पर कम कर रहे श्रमिक विजय द्विवेदी पुत्र शेषधर द्विवेदी निवासी रींगौली थाना कंपेयर गंज मध्य प्रदेश चपेट गंभीर रूप से घायल हो गए। विस्फोट होते ही आसपास कम कर रहे अन्य मजदूरों में भगदड़ मच गयी। जिसके कारण काफी देर तक घायल मजदूर के पास कोई नहीं गया। बाद में साथी मजदूर उसके पास पहुंचे और मामले की सूचना एनटीपीसी अस्पताल को दी। उसके बाद घायल को एंबुलेंस के द्वारा अस्पताल लाया गया।

इस घटना के बाद मजदूर आक्रोशित हो गए और परियोजना संयंत्र क्षेत्र में हंगामा करने लगे। मामले की सूचना पाकर समूह महाप्रबंधक आर के सिन्हा मौके पर पहुंचे। उन्होंने मजदूरों को किसी प्रकार समझा बुझा कर शांत किया लेकिन इस घटना को लेकर किसी अधिकारी ने कोई जानकारी नहीं दी। घायल मजदूर इंड्यूल कंपनी का मजदूर था, उसके साथी मजदूर भी दूसरे प्रांत के हैं।

सभी को इस घटना मे शांत रहने की हिदायत तक दे दी गयी। अस्पताल से जब मजदूर के घायल होने की जानकारी आम हुई, तब भी एनटीपीसी के अधिकारी अंजान बने रहे। धीरे-धीरे यह खबर पूरे क्षेत्र में फैल गयी। कोतवाली पुलिस भी मामले की पड़ताल करने एनटीपीसी अस्पताल पहुंची उसके बाद ही मामले की सही जानकारी सामने आयी। कोतवाली प्रभारी धनंजय सिंह ने बताया कि मामले जांच एनटीपीसी चौकी इंचार्ज को सौंपी गई है। जिलाधिकारी संजय खत्री ने बताया कि मामला संज्ञान में नहीं है। इस संबंध में पता किया जाएगा। अगर कोई दोषी पाया गया तो मामले की जांच करायी जाएगी।

इनसेट--------

एक नंवबर को हुआ था हादसा

इस यूनिट में 1 नवंबर को ब्वायलर के ड्राई ऐश सिस्टम का डक्ट फट जाने के कारण बड़ा विस्फोट हुआ था। जिससे सैकड़ों की संख्या में मजदूर व अधिकारी झुलस गए थे। एनटीपीसी के तीन अतिरिक्त महाप्रबंधक समेत कुल 45 लोगों की मौत हो गयी थी। तब से यह यूनिट बंद चल रही है। कुछ समय से उसमें सफाई और निर्माण का काम चल रहा है। घायल मजदूर इलेक्ट्रिशियन है और वह बिजली का काम करता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Cables cracked in NTPC of RaeBareli, injured a laborer