DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बुजुर्गों की सुरक्षा व सम्मान बहुत जरूरी

लखनऊ। प्रमुख संवाददाता

बुजुर्गों की सुरक्षा व सम्मान बहुत जरूरी है। इसी से उनका आत्मविश्वास मजबूत होगा। इसे सभी को समझना होगा। यह बात ऑल इंडिया डिफेंस स्टेट्स वैटरन फोरम के जनरल सेक्रेटरी बीके कौल ने कही। वह शनिवार को फोरम की चतुर्थ वार्षिक समारोह के शुभारंभ के मौके पर सम्बोधित कर रहे थे।

आरए बाजार स्थित कैंट बोर्ड आडिटोरिम में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि जीवन के दो बड़े आयाम बचपन और बुढ़ापा है। बच्चे के रोने पर सभी दौड़कर उसे चुप कराते हैं, लेकिन बुजुर्ग के अकेला पड़ने या रोने पर उनके पास कम लोग ही आते हैं। उनकी बात सुनने से भी लोग कतराते हैं। ऐसे में बुजुर्गों के लिए मित्रवत व्यवहार से लेकर उनमें विश्वास व आत्मविश्वास को बनाए रखना बहुत जरूरी है। इस मौके पर सेवानिवृत्त आईडीएस सेवक नैय्यर की किताब इंतखाब का विमोचन हुआ। किताब में 2500 उर्दू के कठिन शब्दों की डिक्शनरी भी है।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद मध्य कमान डिफेंस स्टेट्स के प्रमुख निदेशक जीएस राजेश्वरन ने कहा कहा कि हर व्यक्ति को एक दिन रिटायर होकर वेटरन बनना है। उस समय उसे अपने जैसे साथियों की जरूरत पड़ेगी। उन्होंने कहा कि जब हम सब आपस में मेलजोल रखेंगे तो सोशल सिक्योरिटी की भावना उत्पन्न होगी। बुजुर्ग खुद को अकेला महसूस नहीं करेगा।

समस्याओं पर हुई चर्चा

दूसरे चरण में रिटायरमेंट के बाद आने वाली समस्याओं पर चर्चा हुई। कैंट बोर्ड के सदस्य एवं पूर्व उपाध्यक्ष प्रमोद शर्मा ने सभी वैटरन को स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया। कार्यक्रम में पूर्व प्रिंसिपल डायरेक्टर अश्वनी कुमार, अध्यक्ष एसएन बनर्जी, फोरम के उपाध्यक्ष रईस अहमद सहित कश्मीर, केरल के अलावा विभिन्न राज्यों से वैटरन ने अपने विचार रखे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bujurg