BSP lagging behind in issuing list of candidates - उम्मीदवारों की सूची जारी करने में पिछड़ रही बसपा DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उम्मीदवारों की सूची जारी करने में पिछड़ रही बसपा

- बसपा ने 38 में अभी सिर्फ 17 उम्मीदवार ही घोषित किएप्रमुख संवाददाता- राज्य मुख्यालयलोकसभा चुनाव का कारवां धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा है। चौथे चरण के लिए नामांकन की अंतिम तारीख भी समाप्त होने में दो दिन बचे हैं, लेकिन बसपा अभी सिर्फ 17 उम्मीदवारों की सूची जारी कर सकी है। बसपा को अभी 21 उम्मीदवारों की सूची और जारी करनी है। पिछले हुए अन्य चुनावों को देखा जाए तो इस बार बसपा की सूची आने में अन्य पार्टियों की अपेक्षा हो रही देरी दावेदारों के लिए रहस्य का सबब बनी हुई है।बसपा इस बार सपा से गठबंधन करके चुनाव लड़ रही है। बसपा के कोटे में 38 सीटें आई हैं। इसमें से वह अभी तक 17 उम्मीदवारों की सूची जारी कर चुकी है। पहली सूची 11 और दूसरी सूची छह उम्मीदवारों की रही। बसपा को अब अवध के साथ पूर्वांचल की सीटों के लिए उम्मीदवारी घोषित करनी है। बसपा की सूची में देरी की वजहें तलाशी जा रही हैं। चर्चा तो यह भी है कि कुछ सीटों पर पेंच की वजह से सूची जारी नहीं हो पा रही है। सीतापुर सीट से ब्राह्मण चेहरा नकुल दुबे को उतारने पर मन बनाया गया है, लेकिन इसको लेकर विवाद चल रहा है। कुछ स्थानीय नेताओं को नकुल के नाम पर ऐतराज है।कैसरगंज सीट से भी ब्राह्मण चेहरे को लाने पर विचार किया जा रहा है। पहले संतोष तिवारी को लोकसभा प्रभारी बनाया गया था, लेकिन बाद में उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। अब पार्टी के कद्दावर ब्राह्मण नेता या फिर उसके किसी खास को मैदान में लाने की चर्चाएं हैं। भदोही और अंबेडकर नगर से पूर्व में तय नामों पर नए सिरे से विचार की चर्चाएं हैं। इसी तरह जौनपुर सीट पर स्थिति अभी पूरी तरह से साफ नहीं हो पाई है। सपा यह सीट अपने लिए चाहती है। बताया तो यह भी जा रहा है कि मायावती बची सीटों के लिए नए सिरे से नाम पर विचार कर रही हैं, जिससे चुनाव में उतरने वाला बेहतर प्रदर्शन कर सके।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: BSP lagging behind in issuing list of candidates