DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एससी-एसटी एक्ट को तो मायावती ने अपनी सरकार में किया कमजोर: डा.निर्मल

-सपा ने फाड़ दिया था दलितों के आरक्षण का बिलप्रमुख संवाददाता / राज्य मुख्यालयअनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम के चेयरमैन डा. लाल जी प्रसाद निर्मल ने बसपा प्रमुख मायावती पर हमला करते हुए कहा कि एससी-एसटी एक्ट को सबसे पहले मायावती ने प्रदेश में अपनी सरकार रहते कमजोर किया। ऐसे में उनका इस मामले में भाजपा पर राजनीति करने का आरोप लगाना दलितों का अपमान है। उन्होंने कहा कि सपा ने ही संसद में दलितों के आरक्षण से जुड़ा बिल फाड़ दिया था।उन्होंने वादा किया कि एससी एसटी एक्ट के संशोधन में किसी सवर्ण का उत्पीड़न नहीं होने दिया जाएगा। डा. निर्मल ने बसपा के साथ सपा और कांग्रेस को भी निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि दलितों के हितैषी बनने का दावा करने वाले सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने अपने मुख्यमंत्रित्व के पांच साल के कार्यकाल में किसी दलित को विधान परिषद या राज्यसभा का सदस्य तक नहीं बनाया। कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी ने दलितों के प्रमोट करने की बात कही थी, लेकिन उन्होंने भी दलितों को उनके हाल पर छोड़ दिया। डा. निर्मल बुधवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में बसपा, सपा और कांग्रेस पर आरोप लगा रहे थे। उन्होंने कहा कि मायावती दलितों की ठेकेदार बनना चाहती हैं जबकि मायावती ने दलितों के विकास व उत्थान के लिए कोई रोडमैप नहीं बनाया। वह चाहती हैं कि दलित पिटता रहे और वो हमेशा कमजोर रहे और उनको वोट करता रहे। कारण कि मायावती खुद कहती हैं कि पढ़े लिखे दलित उन्हें वोट नहीं करते हैं। मायावती ने अनुसूचित जाति जनजाति आयोग को भी दंत विहीन किया था। उन्होंने कहा कि बसपा प्रमुख मायावती को देश का सबसे बड़ा जातिवादी चेहरा और दलित विरोधी करार दिया। मायावती आम्बेडकर विरोधी भी हैं। आम्बेडकर जातियों के बीच समरसता लाना चाहते थे तो मायावती जातिवादी चेहरा बन गई हैं।उन्होंने कहा कि सपा बसपा कांग्रेस नहीं केवल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोचा कि दलितों पर कैसे अत्याचार रुकेगा। उन्होंने दलित एक्ट को मजबूत बनाया। इसके पहले पीएम मोदी के प्रयासों से ही साल 2016 में अनुसूचित जातियों के लोगों की हत्या जैसे जघन्य मामलों में पीड़ित परिवारों को आठ लाख रुपए तक की आर्थिक सहायता देने की व्यवस्था की गई। भाजपा ही दलितों को राजनीतिक भागेदारी दे रही है। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी दलितों का क्या भला करेगी। उसने अपनी सरकार में ठेकों में दलितों का आरक्षण खत्म किया और संसद में दलितों के आरक्षण का बिल फाड़ दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:BJP Nirmal