DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › लखनऊ › मनकामेश्वर में कड़ी सुरक्षा के बीच होंगे भोलेनाथ के दर्शन
लखनऊ

मनकामेश्वर में कड़ी सुरक्षा के बीच होंगे भोलेनाथ के दर्शन

हिन्दुस्तान टीम,लखनऊPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 06:20 PM
मनकामेश्वर में कड़ी सुरक्षा के बीच होंगे भोलेनाथ के दर्शन

सुरक्षा के मद्देनजर मंदिर के गर्भ गृह में नहीं मिलेगा प्रवेश

कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना होगा

लखनऊ। संवाददाता

सावन माह का दूसरा सोमवार दो अगस्त को पड़ रहा है। मनकामेश्वर मंदिर में भोलेनाथ के दर्शन के लिए भक्तों को कड़ी सुरक्षा से गुजरना होगा। गेट पर पुलिस और सेवादारों का पहरा रहेगा। जांच के बाद ही भक्तों को मंदिर में प्रवेश मिल सकेगा। मंदिर प्रशासन की ओर से यह निर्णय धमकी भरा पत्र मिलने के बाद लिया गया है। वहीं श्री महाकाल मंदिर, कोनेश्वर मंदिर द्वादश ज्योतिर्लिंग, छोटा व बड़ा शिवाला समेत सभी प्रमुख शिव मंदिरों में भी कोरोना प्रोटोकॉल के तहत प्रवेश दिया जाएगा।

गर्भगृह के बाहर से कर सकेंगे जलाभिषेक

मनकामेश्वर मठ मंदिर की महंत देव्या गिरि ने बताया कि किसी अनजान व्यक्ति द्वारा पत्र भेजकर हिंसक कार्रवाई और धमाके की बात कही गई है। पत्र में स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या से पहले हाल में पकड़े गए संदिग्धों को रिहा करने के लिए कहा गया है। सोमवार को मंदिर में बड़ी संख्या में भक्त भोलेनाथ के दर्शन के लिए आते हैं। इसको देखते हुए प्रशासन से अतिरिक्त पुलिस बल लगाने की मांग की गई है। सुबह पांच बजे भक्तों के लिए मंदिर का कपाट खुल जाएगा। मंदिर में भीड़ न जुटने पाए इसके लिए बारी- बारी से पांच- पांच लोगों को प्रवेश दिया जाएगा। अधिक देर तक किसी को भी मंदिर परिसर में रुकने नहीं दिया जाएगा। गर्भगृह के बाहर से ही भक्त भोलेनाथ का जलाभिषेक कर सकेंगे। महंत देव्या गिरि ने भक्तों से अपील की कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए घर पर रहकर ही भोलेनाथ की पूजा अर्चना करें।

फेसबुक पर आरती का लाइव प्रसारण

भक्तों की सहूलियत के लिए मंदिर के फेसबुक पेज पर आरती पूजन का लाइव प्रसारण किया जाएगा। वहीं राजेंद्रनगर स्थित श्री महाकाल मंदिर में रात 12 बजे मंदिर के कपाट खुल जाएंगे। सुबह चार बजे भस्म आरती होगी। मंदिर के मुख्य सेवादार अतुल मिश्रा ने बताया कि बगैर मास्क के किसी को भी मंदिर में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। जो भी व्यक्ति बगैर मास्क के आएगा उसे 10 रुपए जमा करने पर मास्क दिया जाएगा। इसके बाद ही वह मंदिर में प्रवेश पा सकेगा। वहीं कोरोना संक्रमण को देखते हुए चौक स्थित कोनेश्वर मंदिर में भी एक बार में पांच से सात लोगों को ही प्रवेश दिया जाएगा। मंदिर की ओर से होने वाले रुद्राभिषेक में भक्त सीमित संख्या में ही प्रसाद बांट सकेंगे। साथ ही सदर स्थित द्वादश ज्योतिर्लिंग, बड़ा व छोटा शिवाला में भी एक बार में सीमित संख्या में ही भक्तों को प्रवेश मिलेगा।

संबंधित खबरें