अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गीत-संगीत से महकी बंगाली नववर्ष की शाम

लखनऊ। वरिष्ठ संवाददाता

बंगाली संस्कृति, संगीत और संस्कारों की सुगंध से सोमवार की शाम बंगबंधु पार्क महक उठा। 15 अप्रैल से शुरू हुए बंगाली नववर्ष के उपलक्ष्य में यहां एक सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में रंगारंग आयोजन हुए, जरूरतमंद बच्चों को कॉपी किताबें बांटी गईं और तीन विशिष्ट लोगों को सम्मानित भी किया गया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा थे। उन्होंने यहां जुपिटर एलाइट स्कूल के बच्चों को बंधु महल समिति की ओर से स्टेशनरी बांटी। साथ ही उन्होंने यहां कहा कि भारतीय संस्कृति सही मायने में शिक्षा की परिचायक है। हमारे यहां दादा-दादी, नाना-नानी के संस्कार बच्चों को अच्छा नागरिक बनाते हैं। उन्होंने अमेरिक के बच्चों में बढ़ रहे गन कल्चर पर बात करते हुए बताया कि बोस्टन यूनिवर्सिटी का एक अध्ययन कहता है कि इस कल्चर का एकमात्र कारण बच्चों की उनके ग्रैंडपेरेंट्स से दूरी है। साथ ही उन्होंने समिति की इस बात के लिए सराहना भी की कि दुर्गा पूजा से पैसा बचाकर उसे बच्चों की पढ़ाई में लगाया जाता है।

150 बच्चों को दी स्टेशनरी

समिति के सचिव बीएम चक्रवर्ती ने बताया कि इस बार 150 बच्चों को स्टेशनरी दी गई है। इसके अलावा यहां तीन विभूतियों को 'बंधु महल एक्सिलेंस अवॉर्ड' भी दिया गया। इनमें वरिष्ठ पत्रकार राजीव मलिक, एचएएल के जीएम सुरोजित दास और मात्र 11 वर्ष की उम्र में शतरंज में महारथ हासिल करने वाला बच्चा मेधांश सक्सेना शामिल हैं। इन सभी को बीजेपी नेता विजय बहादुर पाठक ने सम्मानित किया। कायर्क्रम में छोटे छोटे बच्चों ने अपनी मनमोहक प्रस्तुतियों से खूबसूरत समां बांध दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bengali