DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

केजीएमयू ट्रॉमा सेंटर में कैमरे बंद कर तीमारदारों को पीटा था 

केजीएमयू ट्रॉमा सेंटर में तीमारदारों की बेरहमी से पिटाई के मामले में अफसरों की लापरवाही उजागर हुई है। जांच टीम ने जब सीसीटीवी कैमरे की रिकॉर्डिंग मांगी तो पता चला कैमरे खराब हैं। आरोप हैं कि घटना को अंजाम देने से पहले कर्मचारियों ने कैमरे बंद कर दिए थे। उसके बाद तीमारदारों की पिटाई की। 

केजीएमयू का सालाना बजट करीब 910 करोड़ रुपए है। मरीज-तीमारदार, डॉक्टर व कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए परिसर में सीसीटीवी कैमरे लगाने का प्रस्ताव बना। 64 भवनों के लिए करीब 350 सीसीटीवी कैमरे लगाने का फैसला हुआ। एक करोड़ 22 लाख रुपये की लागत से 225 कैमरे खरीद गए। 50 कैमरे से परिसर के विभिन्न स्थानों में लगाए गए थे। बाकी कैमरे अभी भी डिब्बे में कैद हैं। ी हैं। चार मई को काकोरी निवासी फैजान (27) सड़क हादसे में घायल हो गया था। परिवारीजन मरीज को गंभीर हाल में रात करीब 12.45 बजे ट्रॉमा सेंटर लेकर पहुंचे।

रिश्तेदार रिजवान का आरोप था कि कैजुअल्टी में डॉक्टरों ने करीब 20 मिनट तक मरीज को नहीं देखा। वह दर्द से तड़प रहा था। कुछ समय बाद फैजान की मौत हो गई थी। इलाज में कोताही का आरोप लगाने पर कर्मचारियों और तीमारदारों में भिड़ंत हो गई थी। सुरक्षागार्ड- कर्मचारियों ने चैनल बंद तीमारदारों को लाठी-डंडे और रॉड से बेरहमी से पीटा था।  

ट्रॉमा सेंटर में 23 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। आठ नए कैमरे लगाए गए हैं। 15 कैमरे करीब 10 साल पुराने हैं। कर्मचारियों पर सीसीटीवी कैमरे खराब करने का आरोप बेबुनियाद हैं।
डॉ. संदीप तिवारी, प्रवक्ता, ट्रॉमा सेंटर, केजीएमयू  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Beat the care taker of patient in KGMU trauma center