DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बलरामपुर : निर्माण कार्यों में अनियमितता पर आरईएस पर दो एफआईआर

गड़बड़झाला

बार्डर एरिया डेवलेपमेंट कार्यक्रम के तहत हुए निर्माण कार्यों में मिली घोर अनियमितता

निर्धारित लंबाई से कम बनाई गई सीसी रोड, नहीं हुआ नाली निर्माण

जिलाधिकारी के निर्देश पर डीएसटीओ ने गैसड़ी व पचपेड़वा में दर्ज कराया मुकदमा

बलरामपुर। हिन्दुस्तान संवाद

गैसड़ी तथा पचपेड़वा विकास खंड में बार्डर एरिया डेवलेपमेंट कार्यक्रम के तहत कराए गए निर्माण कार्य में अनियमितता पाई गई है। जिलाधिकारी के निर्देश पर अर्थ एवं संख्याधिकारी ओंकार सिंह ने कार्यदाई संस्था ग्रामीण अभियंत्रण विभाग के खिलाफ गैसड़ी कोतवाली तथा पचपेड़वा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है।

बार्डर एरिया डेवलेपमेंट कार्यक्रम वर्ष 2016-17 के तहत गैसड़ी के ग्राम पंचायत बिशुनपुर कला व पचपेड़वा के ग्राम पंचायत मजगवां में सीसी रोड तथा नाली निर्माण का कार्य कराया गया है। जिसका स्थलीय सत्यापन अर्थ एवं संख्याधिकारी ने किया। उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत बिशुनपुर कला में इंटरलाकिंग व नाली निर्माण की कुल लागत 28 लाख 38 हजार रुपए थी। इंटरलाकिंग की लंबाई 725 मीटर तथा चौड़ाई तीन मीटर निर्धारित थी। स्थलीय निरीक्षण में पाया गया कि इंटरलाकिंग की लंबाई आगणन में प्रस्तावित लंबाई से कम है। वहां मौजूद आरईएस के अवर अभियंता धीरेन्द्र कुमार ने बताया कि गांव के बीच-बीच में छोटी-छोटी लंबाई की इंटरलाकिंग बनी है जिन्हें जोड़कर कार्य पूर्ण किया गया है। छोटी-छोटी इंटरलाकिंग की लंबाई नापी गई। जोड़ने पर कुल 725 मीटर लंबाई पाई गई। हालांकि टुकड़ों में किया गया यह कार्य बिना सक्षम अधिकारी के किया गया है। वहीं इंटरलाकिंग की चौड़ाई अलग-अलग स्थानों पर भिन्न पाई गई। इंटरलाकिंग की औसत चौड़ाई तीन मीटर के बजाय 2.75 मीटर ही पाई गई। इसी प्रकार आगणन में 215 मीटर लंबाई नाली निर्माण ढक्कन, पाइप सहित दो लाख 75 हजार 70 रुपए धनराशि की प्रस्तावित थी। कार्यस्थल पर नाली निर्माण नहीं किया गया था। मनमाने ढंग से कराए गए कार्य से शासकीय धन का दुरुपयोग किया गया है।

इसी प्रकार पचपेड़वा के ग्राम मजगवां में सीसी रोड व नाली का निर्माण 19 लाख 97 हजार रुपए से किया जाना था। इसकी लंबाई 650 मीटर तथा चौड़ाई साढ़े तीन मीटर प्रस्तावित थी। अलग-अलग स्थानों पर बनी सीसी रोड की मापन में लंबाई 462 मीटर ही पाई गई। जबकि औसत चौड़ाई साढ़े तीन मीटर के बजाय 3 मीटर ही मिली। चार लाख 11 हजार 580 रुपए केसी डे्रन तथा यूसी डे्रन का निर्माण होना था। जबकि यहां कोई ऐसा निर्माण नहीं हुआ। पचपेड़वा तथा गैसड़ी के प्रभारी निरीक्षकों ने बताया कि अर्थ एवं संख्याधिकारी की तहरीर के आधार पर ग्रामीण अभियंत्रण विभाग के विरुद्ध गबन व धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Balrampur: Two FIRs on RES on irregularity in construction works