अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बहराइच : बारिश के दौरान ढहा प्राथमिक विद्यालय 

बहराइच : बारिश के दौरान ढहा प्राथमिक विद्यालय 

बहराइच के अधिकतर प्राथमिक विद्यालय भवन जर्जर हैं। जान जोखिम में डालकर छात्र-छात्राएं शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। गुरुवार की रात तेज बारिश के दौरान फखरपुर के मूसेपट्टी का प्राथमिक विद्यालय गिर गया। यदि यह विद्यालय दिन में गिरा होता, तो बड़ा हादसा हो सकता था। विद्यालय गिरने की जानकारी पाकर शुक्रवार को खण्ड विकास अधिकारी तेजवंत सिंह, ग्राम पंचायत अधिकारी ओम प्रकाश यादव, समेत शिक्षा विभाग के कर्मचारियों ने पहुंचकर जांच शुरू कर दी है। 
बहराइच के फखरपुर ब्लाक के परिषदीय विद्यालयों की हालत जर्जर है। नौनिहाल अपनी जान जोखिम में डालकर शिक्षा ग्रहण करते हैं। विभाग के अधिकारी सब कुछ जानते हुए भी मौन हैं। कौन सा जर्जर विद्यालय कब मुसीबत का सबब बन जाय, कोई नहीं जानता। गुरुवार की रात मूसलाधार बारिश शुरू हुई। कुछ देर बाद ही मूसेपट्टी प्राथमिक विद्यालय का आधा हिस्सा जमींदोज हो गया। रात में विद्यालय गिरने से कोई हताहत नहीं हुआ। विभागीय लोगों का कहना है कि जो कमरा गिरा है इसमें 2 वर्षों से पढाई नहीं होती थी। जबकि आसपास के लोगों का कहना है कि अभी तक बच्चे इसी कमरे के बरामदे में बैठकर मिड डे मील खाते थे। शिक्षक भी कुर्सियां डालकर इसी में बैठते थे। 
प्रतिदिन 100 से 150 तक बच्चे पढ़ने आते हैं
इस विद्यालय में 177 बच्चों का नामांकन है। प्रतिदिन 100 से 150 तक बच्चे पढ़ने आते हैं। जर्जर विद्यालय के बगल कुछ दिन पूर्व एक एसीआर कक्ष बनाया गया था। दो एसीआर कक्ष लगभग पचास मीटर दूर बना हुआ है, लेकिन शिक्षक एक ही कमरे में सभी बच्चों को बैठाकर पढ़ाते थे। इस विद्यालय में 6 शिक्षक तैनात हैं। 
 
बच्चों के बैठने के लिए 3 एसीआर बनाए गए हैं। जर्जर भवन को तोड़ने के लिए आदेश मांगा गया था। जो अभी तक नहीं मिल पाया है। विद्यालय गिरने के बाद बचा हुआ विद्यालय भी जल्द गिराया जाएगा। एसीआर में न बैठाने वाले लापरवाह शिक्षकों पर भी कार्रवाई की जाएगी। 
बृजलाल वर्मा, खण्ड शिक्षा अधिकारी 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bahraich: Downfall Primary School During Rain