अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बहराइच : 100 बीघे कृषि योग्य भूमि घाघरा में समाहित

मिहींपुरवा ब्लॉक के गिरगिट्टी गांव के तीन मजरों में घाघरा ने प्रलय मचा दी है। पिछले 24 घंटों में एक दर्जन किसानों की 100 बीघे कृषि योग्य भूमि घाघरा ने अपनी प्रलयंकारी लहरों में समाहित कर लिया। कटान तेज होने से किसानों के चेहरे पर खामोशी छा गई है। कई घर नदी की धारा में लटक रहे हैं। तेजी से कटान करती हुई नदी आगे बढ़ रही है। 
मिहींपुरवा ब्लॉक के गिरगिट्टी के मजरा पूरबपुरवा, मटिहापुरवा, बंगला व सोमईगौढ़ी में रविवार को घाघरा नदी ने प्रलय मचा दी। इन मजरों के रामवकील पुत्र कल्लू, राजपति पुत्र पुत्तीलाल, सूबेदार पुत्र पुत्तीलाल, मनोहर पुत्र कंधई तथा राजरानी पत्नी मौजी सहित एक दर्जन किसानों की 100 बीघे भूमि पर लगी गन्ने व धान की फसलें नदी की लहरों में समाहित हो गई। पिछले 24 घंटों से तेजी के साथ साथ निगल रही कृषि योग्य भूमि से किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें पड़ गई हैं। भूमि गवां चुके किसान रविवार को नदी के किनारे बैठकर लहरों को निहारते रहे। किसानों को कहना है कि जिस रफ्तार से नदी कटान कर रही है यदि ऐसे ही कटान होती रही, तो दो-चार दिनों के अन्दर पूरा इलाका नदी में समा जाएगा। 
गिरगिट्टी के प्रधान जितेन्द्र यादव ने बताया कि पिछले 24 घंटों में नदी ने दर्जन भर किसानों की लगभग 100 बीघे कृषि योग्य भूमि घाघरा ने समाहित कर लिया है। पूरबपुरवा, सोमईगौढ़ी, गिरगिट्टी में तेजी से कटान चल रही है। कई घर नदी के मुहाने पर हैं। ग्रामीण गांव छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर पलायन कर रहे हैं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bahraich: 100 bigha agricultural land covered in Ghaghra